वैश्विक रैंकिंग में पांच पायदान फिसला दिल्ली हवाई अड्डा

मॉन्ट्रियल/नई दिल्ली। यात्रियों की संख्या के मामले में दुनिया के शीर्ष हवाई अड्डों की सूची में दिल्ली का इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा पांच पायदान फिसलकर 17वें स्थान पर आ गया है।

एयरपोर्ट काउंसिल इंटरनेशनल (एसीआई) ने वर्ष 2019 में हवाई अड्डों पर आवाजाही के हिसाब से मंगलवार को नई रैंकिंग जारी की। दिल्ली हवाई अड्डे पर गत वर्ष यात्रियों की संख्या दो प्रतिशत घटकर 6,84,90,731 रह गई। वर्ष 2018 में यह दुनिया में 12वें स्थान पर रहा था। पिछले साल इसकी रैंकिंग घटकर 17वें पायदान पर आ गई। इसके बावजूद शीर्ष 20 में जगह बनाने वाला यह भारत का एक मात्र हवाई अड्डा है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि दिल्ली हवाई अड्डे पर इस साल की पहली तिमाही में यानी जनवरी से मार्च के बीच हवाई यात्रियों की संख्या में 7.1 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। मार्च के अंतिम सप्ताह में लॉकडाउन के कारण देश में यात्री उड़ानें पूरी तरह बंद रहीं। कोविड-19 के मद्देनजर इससे पहले से ही कई अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर उड़ानें बंद कर दी गई थीं। देश में 22 मार्च से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों की आवाजाही बंद कर दी गई थी।

आंकड़ों के अनुसार इस साल 31 मार्च को समाप्त तिमाही में दिल्ली हवाई अड्डे पर 1,56,18,233 यात्रियों की आवाजाही रही। एसीआई की यात्री संख्या आधारित रैंकिंग में अमरीका का एटलांटा हवाई अड्डा और चीन का बीजिंग हवाई अड्डा क्रमश: पहले और दूसरे स्थान पर बने रहे।

यात्री की संख्या 3.1 फीसदी की घटने से दुबई हवाई अड्डा एक स्थान खिसककर चौथे स्थान पर चला गया जबकि अमेरिका का लॉस एंजिलिस हवाई अड्डा एक स्थान की छलाँग लगाकर तीसरे पायदान पर पहुंच गया। जापान की राजधानी टोक्यो के हनेदा हवाई अड्डे ने अपना पाँचवाँ स्थान बरकरार रखा है।

शीर्ष 10 में अमरीका के चार हवाई अड्डे हैं और चीन के दो हवाई अड्डे हैं। अमरीका का शिकागो छठे और डैलस हवाई अड्डा 10वें स्थान पर रहा। लंदन का हिथ्रो हवाई अड्डा सातवें, चीन का शंघाई आठवें और फ्रांस की राजधानी पेरिस का चार्ल्स डी गुएला हवाई अड्डा नवें स्थान पर रहा।

किसी हवाई अड्डे पर उतरने और वहाँ से उड़ान भरने वाले विमानों की संख्या कि मामले में दिल्ली हवाई अड्डा 13वें से फिसलकर 16वें स्थान पर चला गया है। पिछले साल यहां 4,66,452 लैंडिंग और टेकऑफ हुए जो 2018 के मुकाबले तीन प्रतिशत कम है।

देश के दूसरे नंबर की विमान सेवा कंपनी जेट एयरवेज के बंद होने का असर दिल्ली एयरपोर्ट के आँकड़ों पर साफ दिख रहा है। इस मामले में अमेरिका का शिकागो हवाई अड्डा पहले और एटलांटा हवाई अड्डा दूसरे स्थान पर रहा।

सिर्फ अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों की संख्या के लिहाज से दुबई हवाई अड्डा पहले, लंदन का हिथ्रो हवाई अड्डा दूसरे और नीदरलैंड का एम्सटर्डम हवाई अड्डा तीसरे स्थान पर रहा। इस सूची में शीर्ष 20 में कोई भारतीय हवाई अड्डा नहीं है।

वायु मार्ग से मालपरिवहन के मामले में हांगकांग हवाई अड्डा पहले स्थान पर रहा। सिर्फ अंतर्राष्ट्रीय माल परिवहन के मामले में भी उसने अपना दबदबा कायम रखा है।