जन आक्रोश रैली में राहुल गांधी ने दिखाया जबरदस्त जोश

Omar Abdullah comes out in support of Rahul Gandhi in NCC C-certificate row

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र माेदी पर कोई भी वादा पूरा न करने और विभिन्न महत्वपूर्ण मुद्दों पर मौन रहने का अारोप लगाते हुए अाज पार्टी कार्यकर्ताओं को भरोसा दिलाया कि अागामी सभी विधानसभा चुनाव अौर वर्ष 2019 का आम चुनाव कांग्रेस ही जीतेगी।

गांधी ने यहां रामलीला मैदान में ‘जन आक्रोश रैली’ को संबोधित करते हुए मोदी पर तीखे हमले किए। राहुल ने कहा कि मोदी खोखले वादे करते हैं और वर्ष 2014 में आने के लिए किए गए किसी भी वादे को उन्होंने पूरा नहीं किया है।

भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ नफरत की राजनीति करते हैं और अब संघ धीरे-धीरे लोकतांत्रिक संस्थाओं पर कब्जा करने लग गया है। मोदी सरकार में दलिताें और महिलाओं पर भारी अत्याचार हाे रहे तथा किसानों की हालात बहुत खराब हो गई है।

उन्होंने कहा कि बेरोजगारी बहुत अधिक बढ़ गई है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न मुद्दों पर भारत की आलोचना हो रही है। इस तरह मोदी सरकार के प्रति लोगों में भारी आक्रोश है।

इस जन आक्रोश रैली को पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी संबोधित किया जिसे अगले वर्ष होने वाले आम चुनाव के लिए कांग्रेस का चुनावी शंखनाद माना जा रहा है।

गांधी ने कहा कि कांग्रेस हमेशा सच्चाई के रास्ते पर चली है और उसके हजारों कार्यकर्ताओं ने देश के लिए बलिदान दिया है। पार्टी कार्यकर्ता अब पूरी तरह डटे हुए हैं और कुछ ही दिनों बाद कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी फिर विजयी होगी। इसके बाद छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान विधानसभा चुनाव और उसके बाद अगला आम चुनाव भी पार्टी ही जीतेगी।

उन्होंने कहा कि वह विचारों में विरोधाभास का सम्मान करते हैं और विरोधियों की सुरक्षा करेंगे। हालांकि भाजपा ने कभी भी न तो अलग-अलग विचारों का और ना ही अपने वरिष्ठ नेताओं का सम्मान किया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हम हिन्दुस्तान में लीडरशिप देना चाहते हैं, हम युवाओं को आगे लाना चाहते हैं और यही सोच हिन्दुस्तान को आगे लेकर जा सकती है।

हम सत्य के साथ खड़े हैं जबकि नरेन्द्र मोदी जी सत्ता के पीछे पड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में आरएसएस और भाजपा की मशीनरी ने झूठ को फैलाया। हर जगह जाकर मोदी जी ने कांग्रेस पार्टी के बारे में झूठ फैलाया। अब सच्चाई बाहर आ रही है।

गांधी ने आरएसएस और भाजपा पर नफरत फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने इस देश को जोड़ने का काम किया है। मोदी जी ने कहा था कि 70 साल में कांग्रेस ने कुछ नहीं किया, 60 महीने में मोदी जी ने क्या किया है। बेरोजगारी दी, महिलाओं पर अत्याचार किया, अनौपचारिक क्षेत्र को खत्म किया और चीन के सामने खड़े नहीं हो पाए।
डोकलाम में चीन की सेना घुसी हुई है और हिन्दुस्तान के प्रधानमंत्री चीन में बिना एजेंडा चर्चा कर रहे हैं, डोकलाम के बारे में मोदी ने चीन में एक शब्द नहीं कहा।

उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री के कार्यकाल में दलित उत्पीड़न में तेजी से बढोतरी हुई है लेकिन मोदी ने अब तक इस पर एक शब्द भी नहीं कहा है। प्रधानमंत्री कहते थे ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’। हिन्दुस्तान के इतिहास में पहली बार विदेश में प्रधानमंत्री को बताया गया कि आप हिन्दुस्तान की महिलाओं की रक्षा नहीं कर रहे हो।

कांग्रेस अध्यक्ष ने संघ पर हर लोकतांत्रिक संस्थान पर धीरे-धीरे कब्जा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि संस्थाओं को नष्ट किया जा रहा है तथा हर जगह संघ के लोग बिठाए जा रहे हैं। प्रत्येक मंत्री के ओएसडी संघ के लोग बनाए गए हैं लेकिन प्रधानमंत्री चुपचाप बैठे हुए हैं।

उन्होंने कहा कि सिर्फ कांग्रेस पार्टी ही देश के किसानों का समर्थन करती है और उनके हितों की रक्षा कर सकती है।
गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के बिना इस देश का किसान जी नहीं सकता। अगर कांग्रेस पार्टी खड़ी नहीं होती तो हिन्दुस्तान के किसान की सब जमीन प्रधानमंत्री छीन लेते।

मोदी सरकार ने बोनस छीनने के साथ ही न्यूनतम समर्थन मूल्य में बढोतरी नहीं की है और भाषण में सिर्फ किसानों की बात करते हैं। केन्द्रीय वित्त मंत्री कहते हैं कि किसानों का ऋण माफ करना उनकी नीति नहीं है। गांधी ने कहा कि इस मुद्दे पर वह स्वयं प्रधानमंत्री से मिले थे और किसानों के ऋण माफ करने के लिए कहा था। लेकिन मोदी ने इससे इंकार कर दिया।

गांधी ने रेल मंत्री पीयूष गाेयल पर आरोप लगाया कि केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद भी उन्होंने अपनी कंपनी की घोषणा नहीं की और बाद में कंपनी ही बेच दी। लेकिन इस पर भी प्रधानमंत्री चुप्पी साधे हुए हैं। राफेल सौदे का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) जैसी सरकारी कंपनी से इस सौदे को लेकर मोदी ने अपने एक मित्र की अनुभवहीन निजी कंपनी को दे दिया है।

उन्होंने हाल ही में उच्चतम न्यायालय के कुछ न्यायाधीशों के अदालती कामकाज को लेकर सार्वजनिक बयान देेने का उल्लेख करते हुए कहा कि आम तौर पर जनता जज के पास न्याय के लिये जाती है। 70 साल में पहली बार देश में शीर्ष अदालत के न्यायाधीश न्याय के लिए जनता के समक्ष आ रहे हैं। लेकिन इस पर भी प्रधानमंत्री चुप हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि देश प्रधानमंत्री के भाषण को सुनता है और सच्चाई ढूंढने की कोशिश करता है। भारत विभिन्न धर्माें और विश्वास का देश है। विश्वास की नींच सच्चाई पर टिकी होती है। जब हम भगवान के सामने सिर झुकाते हैं तो हम सच्चाई के सामने ऐसा कर रहे होते हैं।

गांधी ने देश के विभिन्न इलाके की अपनी यात्राओं का उल्लेख करते हुए कहा कि जहां भी मैं जाता हूं लोगों से बातें करता हूं और सीधा सवाल पूछता हूं ‘खुश हो’। जवाब मिलता है, नहीं।’