दिल्ली में होगा देश का पहला अंतर्राष्ट्रीय स्तर का पर्यटन मार्ट

दिल्ली में होगा देश का पहला अंतर्राष्ट्रीय स्तर का पर्यटन मार्ट
दिल्ली में होगा देश का पहला अंतर्राष्ट्रीय स्तर का पर्यटन मार्ट

नयी दिल्ली । विदेशी सैलानियों को फोकस करते हुये देश में पहली बार अंतर्राष्ट्रीय स्तर का पर्यटन मार्ट 16 से 18 सितम्बर तक राष्ट्रीय राजधानी में आयोजित किया जायेगा जिसका लक्ष्य तीन साल में विदेशी पर्यटकों की संख्या और राजस्व दोगुना करना है।

पर्यटन मंत्री के.जे. अल्फोंस ने आज यहाँ पहले ‘भारत पर्यटन मार्ट’ के बारे में संवाददाताओं को जानकारी देते हुये कहा कि पिछले साल प्रवासी भारतीयों समेत एक करोड़ 65 लाख से ज्यादा विदेशी सैलानी भारत आये थे। अगले तीन साल में इनकी संख्या बढ़ाकर दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया है। साथ ही इन पर्यटकों से प्राप्त 27 खरब डॉलर के राजस्व को भी तीन साल में दोगुना करने की योजना है।

उन्होंने कहा कि अब तक केंद्रीय स्तर पर कोई अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन मार्ट आयोजित नहीं किया जाता था। कुछ राज्य अपने स्तर पर जरूर इस तरह के आयोजन करते थे। यह पहली बार होगा जब एक साथ पूरे देश के पर्यटक स्थलों की ओर अंतर्राष्ट्रीय ग्राहकों को आकर्षित करने का प्रयास किया जायेगा। उन्होंने घोषणा की कि भारत पर्यटन मार्ट का आयोजन अब हर साल किया जायेगा।

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि मार्ट में शामिल होने के लिए सभी राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों को आमंत्रित किया गया है। साथ ही पर्यटन मंत्रालय और पर्यटन एवं आतिथ्य क्षेत्र के संगठनों के महासंघ (फेथ) की एक संयुक्त समिति मार्ट में शामिल होने के लिए विदेशी ग्राहकों का चयन करेगी।

महासंघ इसका सह-आयोजक है। अभी 250 ग्राहकों के लिए व्यवस्था की जा रही है लेकिन माँग बढ़ने पर यह संख्या बढ़ाई भी जा सकती है। चयन प्रक्रिया के लिए विदेशों में स्थित भारतीय पर्यटन कार्यालयों, सरकारी विमान सेवा कंपनी एयर इंडिया तथा कुछ विदेशी विमान सेवा कंपनियों से भी नाम प्रस्तावित करने का आग्रह किया गया है।

अल्फोंस ने कहा कि पर्यटन मंत्रालय द्वारा पिछले दिनों अमेरिका में किया गया रोड-शो बेहद सफल रहा और आने वाले दिनों में रूस तथा चीन में भी इस तरह के रोड-शो की योजना है। विशेषकर चीन में बहुत संभावना है। वहाँ से हर साल 14 करोड़ 40 लाख से ज्यादा पर्यटक विदेश यात्रा करते हैं।

पर्यटन सचिव रश्मि वर्मा ने कहा कि देश का पर्यटन क्षेत्र तेजी से बढ़ रहा है। चीन, जापान, रूस और लातिन अमेरिकी देश भारत के लिए उभरते हुये बाजार हैं और इन देशों पर भविष्य में फोकस किया जायेगा। उन्होंने कहा कि कुछ राज्य पहले से अंतर्राष्ट्रीय ग्राहकों के साथ पर्यटन मार्ट का आयोजन करते रहे हैं, जैसे केरल पर्यटन मार्ट। भारत पर्यटन मार्ट उन राज्यों को भी अवसर प्रदान करेगा जिनमें पर्यटन की संभावना है, लेकिन वे उसका प्रचार-प्रसार बड़े पैमाने पर नहीं कर पाते।

मार्ट के पहले दिन 16 सितम्बर को ग्राहकों के साथ राज्यों की बातचीत होगी। दूसरे दिन विज्ञान भवन में उद्घाटन समारोह होगा। उसके बाद 17 सितम्बर को शेष दिन और 18 सितम्बर को पूरे दिन ग्राहक-विक्रेता बैठकों का दौर चलेगा।