दलालों और बिचौलियों पर लगाम कसने में डिजिटल इंडिया योजना कारगर: मोदी

दलालों और बिचौलियों पर लगाम कसने में डिजिटल इंडिया योजना कारगर: मोदी
दलालों और बिचौलियों पर लगाम कसने में डिजिटल इंडिया योजना कारगर: मोदी

नयी दिल्ली | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि सरकार की डिजिटल इंडिया योजना दलालों और बिचौलियों पर अंकुश लगाने में कारगर और लोगों को सशक्त बनाने में बहुत मददगार साबित हो रही है।

मोदी ने शुक्रवार को डिजिटल इंडिया योजना के विभिन्न लाभार्थियों से संवाद करते हुए कहा , “ यह पहल देश में करोड़ों लोगों की जिंदगी में बदलाव ला रही है । इस पहल से छोटे शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में एक तरफ जहां बड़े पैमानें पर रोजगार सृजन करने में मदद मिली है वहीं काला धन और जमाखोरों के खिलाफ अंकुश लगाने में इससे बहुत मदद मिली है। कुछ लोगों द्वारा यह अफवाहें फैलायी जा रही है कि डिजिटल के इस्तेमाल से पैसा सुरक्षित नहीं है।”

उन्होंने कहा कि इससे बिचौलियों के लिए समस्या पैदा हो रही है और वे ही ऐसी अफवाहें फैलाते हैं। इस योजना के जरिये लोगों को सशक्त बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा , “ किसी को दिखे या ना दिखे , लेकिन देश बदल रहा है।”

मोदी ने कहा कि डिजिटल इंडिया योजना की शुरुआत इस संकल्प के साथ कि गयी थी कि देश के सामान्य व्यक्ति, गरीब, किसान, युवाओं और गांवों को इस योजना से जोड़ना और उन्हें सशक्त बनाना है तथा इसके लाभ अब सामने आने लगे हैं। आज गांव में पढ़ने वाला छात्र सिर्फ अपने स्कूल, कालेजों में उपलब्ध किताबों तक सीमित नहीं रह गया है। इंटरनेट का उपयोग कर डिजिटल लाइब्रेरी के माध्यम से लाखों किताबों तक आसानी से पहुंच बना रहा है। उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया को आगे ले जाना है । यह एक ऐसी लड़ाई है जो दलाल बनाम डिजिटल इंडिया है।

डिजिटल भुगतान का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, “ जब मैंने इस माघ्यम से भुगतान की बात की थी तो कुछ लोगों ने मेरा बहुत मखौल उड़ाया था। ” उन्होंने कहा कि रुपे कार्ड डिजिटल भुगतान के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव ला रहा है। आज देश में करीब पचास करोड़ रुपे कार्ड लोगों की जेब में हैं। भारत में ही नहीं विदेश में भी इस कार्ड का इस्तेमाल किया जा रहा है।

रूपे कार्ड का इस्तेमाल बढ़ाने पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हर व्यक्ति देश की सीमा पर जाकर रक्षा नहीं कर सकता , किंतु रुपे कार्ड का इस्तेमाल करके भी देश सेवा की जा सकती है। रुपे कार्ड का उपयोग करने की यदि आदत डाल लें तो वह भी देश सेवा का एक माध्यम बनेगा। जब हम अन्य कार्ड प्रयोग करते हैं तो हमारे लेन-देन पर जो कमाई होती है वो कार्ड वाले विदेश लेकर चले जाते हैं लेकिन रुपे कार्ड से जो भी कारोबार होगा वह पैसा देश में रहेगा और यहां के लोगों की भलाई के काम में इस्तेमाल किया जायेगा।