सिरोही में फैलते कोरोना संक्रमण और टूटते नियमो को लेकर सख्त होगा प्रशासन

सिरोही।में पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते जिला कलेक्टर।
सिरोही।में पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते जिला कलेक्टर।

सबगुरु न्यूज-सिरोही। कोरोना की दूसरी लहर जिले में भी फैल रही है। इससे सबसे ज्यादा प्रभावित जिले का आबूरोड शहर है। यहां फैलते हुए कोरोना संक्रमण को देखते हुए जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद ने बताया कि वहां रात्रि कर्फ्यू लगाया जा रहा है। यदि जिले में कोरोना संक्रमण को देखते हुए लोगों ने आत्मानुशासन रखते हुए कोविड प्रोटोकॉल की पालना में लापरवाही बरती तो प्रशासन औऱ भी भी सख्ती बरतेगा।
डीआरडीए सभागार में आयोजित पत्रकार वार्ता में जिला कलेक्टर ने बताया कि जिले में जिन भी इलाको में कोरोना का संक्रमण फैलेगा वहां मिनी और माइक्रो कंटेन्मेंट एरिया बनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिस क्षेत्र में 5 लोग कोरोना संक्रमित मिलेंगे वहां पर माइक्रो कन्टेनमेन्ट एरिया बनाकर वहां के लोगों को स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या के अलावा अन्य काम के लिए बाहर नहीं जाने दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि जिले 6 माइक्रो कंटेन्मेंट एरिया बनाये गए हैं। जिला कलेक्टर ने बताया कि कोरोना की ये लहर ज्यादा घातक है। इसका फैलाव और संक्रमण की रफ्तार काफी ज्यादा है। जिले में एक पखवाड़े में ही 13 जने ऑक्सीजन पर निर्भर हो गए हैं। उन्होंने लोगों सेअनुरोध किया कि 45 साल और उससे अधिक उम्र वाले लोग हर हाल में वेक्सिनेशन करवाएं। इससे कोरोना के संक्रमण से जान जाने का खतरा काफी कम हो जाएगा।

जिला कलेक्टर ने बताया कि सरकार और प्रशासन का उद्देश्य आजीविका चलाते हुए जीवन बचाने का है। ऐसे में ये निर्णय किया गया है कि शहरी क्षेत्र में बाजार रात्रि में पूर्व निर्धारित समय पर बन्द किये जायेंगे। दुकानदारों और प्रतिष्ठानों को समय कोविड प्रोटोकॉल और नियमों की पालना करनी होगी। ऐसा नहीं करने पर 13 दुकानों को अब तक सील किया गया है।
उन्होंने बताया कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए फिर से कोविड चिकित्सालय शुरु किये जायेंगे। वहां पर ऑक्सीजन व अन्य व्यवस्थाएं रखी जाएंगी। जिला मुख्यालय, माउंट आबू के ग्लोबल हॉस्पिटल और कृष्णगंज में स्थापित सेंटर पर कुल 45 वेंटिलेटर की व्यवस्था जिले में है।

उन्होंने कोरोना से पीड़ित होम आईसोलेटेड लोगों को चेताया है जो संक्रमित होते हुए भी घरों से बाहर निकल कर घूम रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा कोई व्यक्ति दिखता है तो उसकी शिकायत प्रशासन से करें। ऐसे संक्रमित व्यक्ति को होम आइसोलेशन से संस्थागत आइसोलेशन में रख दिया जायेगा। उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की जाएगी।

कलेक्टर ने बताया कि जिले में अन्य राज्यों से आने वाले लोगों को नेगेटिव आरटीपीसीआर रिपोर्ट लानी जरूरी होगी। जिन लोगों के पास ये नहीं है उसकी एंट्री बोर्डर पर करके उन्हें 15 दिन का होम आइसोलेशन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जो लोग छिप छिप कर जिले में आ रहे हैं उन पर एंटी कोविड टीम नजर रख रही है।
पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष ने बताया कि जिला पुलिस बॉर्डर पर लोगों को नजर रख रही है। बॉर्डर ओर तीन चौकियां बनाई गई हैं। यहां से आने वाले वाहनों से राज्य सरकार के आदेशानुसार नजर रखी जा रही है।  कोविड प्रोटोकॉल तोड़ने वालों पर पुलिस नजर रख रही है।