बिल्डिंग पर कब्जे के लिए भाई-बहन को 2 साल तक बंधक बनाकर रखा

Sabguru News झारखंड के बोकारो में करोड़ों के प्लॉट पर बनी बिल्डिंग पर कब्जा जमाने के लिए एक डॉक्टर व उसके रिश्तेदार ने मकान मालिक दीपक घोष उम्र 50 वर्ष और उनकी बड़ी बहन मंजूश्री घोष उम्र 56 वर्ष को एक कमरे में 2 साल तक बंधक बनाकर रखा आरोपी डीके गुप्ता आंखों का डॉक्टर है।

पुलिस ने भाई-बहन को छुड़ाकर बोकारो जनरल अस्पताल में भर्ती कराया है डॉक्टर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है मंजूश्री और दीपक के पिता SK घोष बोकारो स्टील प्लांट में अधिकारी थे 1971 में उन्हें कोआपरेटिव कॉलोनी में प्लॉट आवंटित किया गया इस पर वह मकान बनाकर अपने परिवार के साथ रहने लगे घर में उनकी पत्नी बेटा और बेटी थी 2001 में संतोष कुमार गुप्ता ने इस प्लॉट के एक हिस्से को किराए पर दिया वहां चश्मे की दुकान और क्लिनिक खोल दिया उसी क्लीनिक में उनके रिश्तेदार नेत्र चिकित्सक डॉ डीके गुप्ता भी बैठते थे इन्होंने मकान पर कब्जा कर लिया और दोनों को बंधक बना लिया.

एडीजी पालटा ने कहा

ऐसी घटना कभी नहीं देखी एडीजीपी आधुनिकरण एवं प्रशिक्षण अनिल पालटा ने अस्पताल में मंजूश्री और दीपक घोष से मुलाकात की उन्होंने कहा 28 साल के कार्यकाल में ऐसी अमानवीय घटना नहीं देखी दोनों भाई बहन को प्लॉट पर कब्जा करने के उद्देश्य से बंधक बनाकर रखा गया था और उनके साथ अमानवीय व्यवहार किया गया है।

उन्होंने बोकारो एसीपी को जांच के आदेश दिए, यह बड़े ही शर्म की बात है कि आज जमीन जायदाद के लिए रिश्तेदार ही अपने उन रिश्तेदारों के साथ ऐसी शर्मनाक चीज कर सकते हैं पेशे से डॉक्टर होते हुए भी उन्होंने एक पल के लिए भी नहीं सोचा यह कितना गलत है आखिर पैसा और जायदाद कब तक साथ रहेंगे लेकिन डॉक्टर डीके गुप्ता की आंखें जमीन जायदाद की लालच की काली पट्टी से बंध गई थी तभी उन्होंने इस तरह की शर्मनाक घटना को अंजाम दिया।

Google Search:

bokaro news channel

bokaro accident news today

dainik bhaskar bokaro

bokaro updates news

sbi bokaro news

bermo news prabhat khabar

chas news in hindi

ggps bokaro news