आर्थिक आंकड़े और तिमाही परिणाम तय करेंगे शेयर बाजार की चाल

मुम्बई : लगातार पांचवें सप्ताह बढ़त में रहने वाले घरेलू शेयर बाजार की चाल वैश्विक रुख के साथ ही अगले सप्ताह जारी होने वाले कंपनियों के वित्तीय परिणाम,कच्चे तेल में उतार-चढ़ाव, अमेरिकी फेडरल रिजर्व की बैठक की घोषणाओं, वाहन बिक्री के आंकड़ों और सेवा क्षेत्र तथा विनिर्माण क्षेत्र की गतिविधियों की रफ्तार से तय होगी। बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक 1.61 फीसदी यानी 554.12 अंक के साप्ताहिक उछाल के साथ शुक्रवार को 34,969.70 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 1.21 फीसदी यानी 128.25 अंक की तेजी में 10,692.30 अंक पर बंद हुआ। दिग्गज कंपनियों की तुलना में मंझोली और छोटी कंपनियों में निवेशकों की दिलचस्पी कम रही। बीएसई का मिडकैप 0.70 फीसदी यानी 118.24 अंक की तेजी में 16,917.18 अंक पर और स्मॉलकैप 0.34 फीसदी यानी 61.93 अंक की तेजी में 18,239.96 अंक पर बंद हुआ।

अगले सप्ताह कई दिग्गज कंपनियों के परिणाम जारी होने हैं, जिनका असर शेयर बजार पर दिखेगा। 30 अप्रैल को कोटक महिंद्रा बैंक और एचडीएफसी, एक मई को डाबर, दो मई को हीराे मोटोकॉर्प, इंडिगो, टाटा पावर और एचसीएल टेक्नोलॉजी, तीन मई को अदानी पोटर्स, वेदांता, एमआरएफ और चार मई को अंबुजा सीमेंट तथा इंडियन बैंक के परिणाम जारी होने हैं। वाहन बिक्री के आंकड़े भी एक मई से जारी होंगे।

इसके अलावा अमेरिकी फेडरल रिजर्व की बैठक एक और दो मई को होनी है, जिसकी घोषणाओं पर निवेशकों की नजर रहेगी। हालांकि गत मार्च में हुई बैठक के दौरान फेड रिजर्व ने ब्याज दर में बढोतरी की घोषणा की थी इसी कारण इस बैठक में ब्याज दर दोबारा नहीं बढाये जाना का अनुमान है।

विनिर्माण क्षेत्र के आंकड़े दो मई को और सेवा क्षेत्र के आंकड़े चार मई को जारी होने हैं। इसके अलावा कच्चे तेल में उतार-चढाव से भी शेयर बाजार प्रभावित रहेगा।
बीते सप्ताह पांच दिन कारोबार हुआ जिसमें से चार दिन शेयर बाजार में तेजी रही और एक दिन गिरावट रही। सप्ताह के पहले दिन सोमवार को विदेशी बाजारों के गिरावट में रहने की खबरों के बावजूद रिएल्टी और स्वास्थ्य समूहों में हुई लिवाली के दम पर सेंसेक्स 35.19 अंक की बढ़त में 34,450.77 अंक पर और निफ्टी 20.65 अंक की बढ़त में 10,584.70 अंक पर बंद हुआ।

मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चा तेल के दाम बढ़ने और इससे रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में करीब पौने चार प्रतिशत की तेजी से सेंसेक्स 0.48 प्रतिशत यानी 165.87 अंक चढ़कर 34,616.64 अंक पर और निफ्टी भी 0.28 प्रतिशत यानी 29.65 अंक की बढ़त में 10,614.35 अंक पर बंद हुआ। बुधवार को वैश्विक स्तर से मिले नकारात्मक संकेतों के बीच घरेलू स्तर पर धातु सहित कई समूहों में हुयी बिकवाली के दबाव में सेंसेक्स 115.37 अंक उतरकर 34501.27 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 43.80 अंक फिसलकर 10570.55 अंक पर रहा।

गुरुवार को अधिकतर विदेशी बाजारों के बढ़त में रहने की खबरों के बीच आईटी, एफएमसीजी समूहों में हुई लिवाली आैर निजी क्षेत्र के यस बैंक के उम्मीद से बेहतर तिमाही परिणाम के कारण बैंकिंग समूह में रही तेजी से सेंसेक्स 212.33 अंक की बढ़त में 34,532.95 अंक पर और निफ्टी 47.25 अंक की तेजी में 10,617.80 अंक पर बंद हुआ। शुक्रवार को विदेशी बाजारों के तेजी में रहने की खबरों और बैंकिंग,पूंजीगत वस्तुओं तथा पीएसयू समूहों के सूचकांक में रही तेजी से सेंसेक्स 256.10 अंक की बढ़त में 34,747.04 अंक पर और निफ्टी 74.50 अंक की तेजी में 10,651.65 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स की 30 में से 20 कंपनियां तेजी में रहीं। महिंद्रा एंड महिंद्रा में सबसे अधिक 7.61 फीसदी की तेजी रही। रिलायंस में 7.19,एक्सिस बैंक में 6.53, अदानी पोटर्स में 5.30, इंडसइंड बैंक में 3.96, सन फार्मा में 3.73, कोटक बैंक में 2.95, बजाज ऑटो में 2.92, एशियन पेंट्स में 2.19, आईसीआईसीआई बैंक में 2.16, भारती एयरटेल में 2.05, एचडीएफसी में 1.43, टीसीएस में 1.42, आईटीसी में 1.20,एल एंड टी में 0.96, हिंदुस्तान यूनीलीवर में 0.62, इंफोसिस में 0.59, भारतीय स्टेट बैंक में 0.52, पावर ग्रिड में 0.24 और टाटा मोटर्स में 0.16 फीसदी की तेजी रही।

विप्रो में 7.71 फीसदी, मारुति में 2.87, टाटा स्टील में 2.75, कोल इंडिया में 2.23, एनटीपीसी में 1.95, एचडीएफसी बैंक में 1.94, डॉ रेड्डीज में 1.09, टाटा मोटर्स डीवीआर में 1.05, ओएनजीसी में 0.88 और हीरो मोटोकॉर्प्स में 0.80 फीसदी की गिरावट रही।