ईडी ने फर्जी कंपनियों के लिए धन शोधन करने वाले व्यक्ति को किया अरेस्ट

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने धन शोधन के कथित मामले में नरेंद्र कुमार गुप्ता नामक एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। ईडी के अनुसार धन शोधन निवारक अधिनियम के तहत दाखिल मामलों की सुनवाई करने वाली विशेष अदालत ने आरोपी को 15 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेजा।

ईडी ने शनिवार को ट्वीट कर कहा कि एजेंसी ने नरेंद्र कुमार गुप्ता को धन शोधन के एक मामले में भारत से बाहर राशि भेजने के आरोप में गिरफ्तार किया है। यह मामला 425 करोड़ रुपये का है। धन शोधन निवारक अधिनियम के तहत विशेष अदालत ने उसे 15 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

ईडी के अनुसार यह मामला 19 फर्जी कंपनियों के माध्यम से अवैध कमाई को देश से बाहर भेजने से जुड़ा है। इस मामले में यह चौथी गिरफ्तारी है। पंजाब नेशनल बैंक की शिकायत पर ईडी ने मामला दर्ज किया था जिसमें बताया गया था कि बैंक की चेन्नई स्थित मिंट स्ट्रीट शाखा में 19 इकाइयों के खाते खोले गए थे।

ये इकाइयां खोखा कंपनियां थी जो वास्तव में कोई कारोबार नहीं करती थीं और उनका कारोबार खाली कागजी था। एजेंसी की जांच में पता चला है कि छह माह की अवधि में इन कंपनियों के जरिए 425 करोड़ रुपए की राशि हांगकांग और संयुक्त अरब अमीरात की विभिन्न इकाइयों में भेजी गयी थी।

ईडी की जांच में पता चला कि नरेंद्र गुप्ता की एक इकाई हांगकांग में है जिसके वह निदेशक भी हैं। इस इकाई का इस्तेमाल उसने 22.6 करोड़ रुपए के धन शोधन में किया था।