झारखंड में ईडी ने IAS पूजा सिंघल को पूछताछ के बाद किया अरेस्ट

रांची। केंद्रीय प्रवर्तन निदेशालय( ईडी) ने बुधवार को आईएएस पूजा सिंघल को पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया है। सिंघल बुधवार को अकेले ईडी कार्यालय पहुंची थी। पिछले दो दिनों से उनसे रांची के एयरपोर्ट रोड स्थित कार्यालय में ईडी के अधिकारी पूछताछ कर रहे थे। मंगलवार को उनसे नौ घंटे तक पूछताछ की गई थी। वहीं दूसरी ओर बताया जा रहा है कि सिंघल के पति अभिषेक झा को गिरफ्तार कर लिया है।

उल्लेखनीय है कि आईएएस अधिकारी पूजा सिंघल को ईडी ने सोमवार को समन जारी किया था। समन जारी होने के बाद मंगलवार को वे ईडी कार्यालय में हाजिर हुई थीं। ईडी अधिकारियों ने उनसे उनकी आमदनी के स्रोत, मनरेगा घोटाले में उनकी भूमिका और उनके बैंक खाते में जमा नगद राशि से संबंधित सवाल पूछे थे।

इससे पूर्व मनरेगा घोटाले को लेकर ईडी ने छह मई को आईएएस पूजा सिंघल और उनके करीबियों से जुड़े करीब 25 ठिकानों पर दो दिन तक छापेमारी की थी। इस दौरान 19.31 करोड़ रुपये और लगभग 300 करोड़ के दस्तावेज जब्त किये गये थे। इसके बाद ईडी ने आईएएस पूजा सिंघल को पूछताछ के लिए समन नोटिस भेज पूछताछ के लिए बुलाया था।

मालूम हो कि प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत जांच के दौरान जूनियर इंजीनियर राम विनोद सिन्हा ने बताया था कि खूंटी जिला प्रशासन मनरेगा में पांच प्रतिशत कमीशन लेता था। साल 2007 से 2013 के बीच पूजा सिंघल डीसी के रूप में चतरा, खूंटी और पलामू में पदस्थापित रही। इस दौरान उन पर कई वित्तीय गड़बड़ियों के आरोप लगे थे।

ईडी के अधिकारी ने पूजा सिंघल से मनरेगा घोटाले में जांच और तत्कालीन इंजीनियर राम विनोद सिन्हा और आरके जैन द्वारा मनरेगा की योजनाओं में कमीशनखोरी से संबंधित दिये गये बयान से जुडे सवाल पूछे। ईडी ने पूजा के आइसीआइसीआइ बैंक स्थित खाते में जमा नकद रुपये और उससे सीए सुमन कुमार और उसके संबंधित कंपनियों में पैसा ट्रांसफर किए जाने से संबंधित सवाल पूछे।

बताया गया कि पूजा सिंघल ने अपने बैंक खाते में जमा नकदी के सिलसिले में तत्काल कुछ भी बताने में असमर्थतता जताई। ईडी ने मनरेगा घोटाले की जांच के दौरान यह पाया था कि पूजा सिंघल के नाम पर आइसीआइसीआइ बैंक में खोले गए खाते कई चरणों में नकद एक करोड रुपए जमा किए गए थे। उन्होंने इसी बैंक खाते के पैसे से 13 पॉलिसी खरीदी थी।