कर्मचारियों ने जुटाए 1.87 लाख रुपए, बनाई प्याऊ और वाटिका

अजमेर। शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि शिक्षा विभाग प्रदेश का सबसे बड़ा परिवार है। राज्य सरकार विभाग को उन्नति के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है। हम सभी के प्रयासों से राजस्थान की शिक्षा आज पूरे देश में दूसरे स्थान पर है। हम अपने साझा प्रयासों से विभाग के कामकाज को और गति दें तो शीघ्र ही हम पहले स्थान पर होंगे।

शिक्षा राज्यमंत्राी देवनानी ने रविवार को तोपदड़ा स्थित शिक्षा उप निदेशक माध्यमिक कार्यालय में विभागीय अधिकारियों के अनूठे नवाचार वाटिका और जलमंदिर का शुभारंभ किया। विभाग के कर्मचारियों ने आपस में एक लाख 87 हजार रुपए एकत्रा कर उस सुंदर वाटिका और जलमंदिर का निर्माण कराया है।

संभाग के चारों जिलों से यहां आने वाले कर्मचारियों को शीतल जल एवं विश्राम के लिए जगह उपलब्ध होगी। देवनानी ने कहा कि शिक्षा परिवार प्रदेश का सबसे बड़ा परिवार है। हम सब मिल कर राजस्थान की शिक्षा को नई ऊंचाइयों पर ले जा रहे हैं। चार साल पहले जब हमने प्रयास प्रारंभ किए राजस्थान 21वें स्थान पर था। आज हम शिक्षा के क्षेत्रा में दूसरे स्थान पर हैं।

उन्होंने कहा कि परिवार में सब एक दूसरे की सहायता कर रहे हैं। हमने भी विभाग की समस्याओं को समझाए जाना और समाधान का प्रयास किया। चाहे पदोन्नति होए नई भर्ती हो या अन्य परेशानियां। राज्य सरकार का प्रयास रहा कि समस्याओं का अंत हो।

पोस्टिंग में पारदर्शिता के लिए काउंसलिंग व्यवस्था लागू की गई। अन्य समस्याओं का भी शीघ्र समाधान होगा। उन्होंने कहा कि हम साथ मिल कर चलें तो शीघ्र राजस्थान शिक्षा के क्षेत्रा में प्रथम स्थान पर होगा।

इस अवसर पर शिक्षा उपनिदेशक माध्यमिक सीताराम गर्ग, जीवराज जाट, रामनिवास गालव, दिनेश ओझा, अमित शर्मा, दर्शना शर्मा सहित अन्य अधिकारी व शिक्षक संघ राष्ट्रीय के पदाधिकारी उपस्थित थे।