फिर मिले लेट लतीफ प्रभारी मंत्री! माफी मांगी हो लिए फारिग

सिरोही के प्रभारी मंत्री प्रमोद जैन भाया
सिरोही के प्रभारी मंत्री प्रमोद जैन भाया

सबगुरु न्यूज- सिरोही। जिले के नसीब में फिर लेट लतीफ प्रभारी मंत्री तो नही आ गये हैं। इत्तेफाक से इनका पोर्टफोलियो भी वही है जो पूर्व के प्रभारी मंत्री का था।

खनन एवं गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया को शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर नवनिर्मित तहसील भवन का उद्घाटन करना था। इसका समय एक बजे निर्धारित था। प्रभारी मंत्री कार्यक्रम स्थल पर करीब 2.43 पर पहुंचे।
मंत्री के कार्यक्रम के लिए कांग्रेस के कार्यकर्ता और पदाधिकारी बारह बजे से ही कार्यक्रम स्थल पर पहुंच चुके थे। वहीं अधिकारी भी निर्धारित समय पर पहुंच चुके थे। लेकिन, मंत्री तो मंंत्री ठहरे। अधिकारियों की गैरमौजूदगी में कार्यालयों में लोगों के काम अटके तो अटके और कार्यकर्ताओं की तो वैसे ही फिक्र इस पर बैठे नेताओं को कहां।
ऐसा नहीं है कि मंत्री जी समय पर नहीं पहुंच सकते थे, वो पिछले 24 घंटे से सिरोही में ही थे। लेकिन, जिस तरह से वसुंधरा राजे शासन काल में राजेन्द्र राठौड़ ने सिरोही के दौरे को माउण्ट आबू पर्यटन का माध्यम बना लिया था लगता है वैसे ही प्रमोद जैन भाया ने सिरोही दौरे को धार्मिक पर्यटन का मौका बना दिया है।

सरकारी कार्यक्रम में उनका भीनमाल जाने का कोई जिक्र नहीं था, लेकिन यहां लोगों को इंतजार करता छोड वह भीनमाल निकल लिए। लेटलतीफी के लिहाज से वर्तमान गोपालन और सिरोही के प्रभारी मंत्री प्रमोद जैन भाया वसुंधरा सरकार के गोपालन और सिरोही के पूर्व प्रभारी मंत्री ओटाराम देवासी के रेकर्ड के समकक्ष पहुंचने की ओर अग्रसर हो चुके हैं। वैसे मंत्री की लेटलतीफी को देखते हुए सिरोही विधायक संयम लोढ़ा ने सभा को शुरू करवा दिया, जिससे मंत्री के आने के बाद कार्यक्रम शुरू होने से लोगों और अधिकारियों का समय बर्बाद न हो।

नव निर्मित तहसील भवन को उद्घाटन करते सिरेाही के प्रभारी मंत्री प्रमोद जैन भाया और विधायक संयम लोढ़ा।

संयम लोढा ने कहा कि वर्तमान सरकार ने कोरोना काल की विषम परिस्थितियों भी में विकास कार्यों को अंजाम दिए है। राज्य सरकार की कोरोना काल में कार्य प्रबंधन की देश एवं विदेश में भी काफी प्रशंसा हुई है। उन्होंने कहा कि विषम परिस्थितियों में किस तरह कार्य कर आम जनता का राहत प्रदान की जावे इसका प्रत्यक्ष उदाहरण राज्य सरकार ने पेश किया है जो प्रशसनीय है।

उन्होंने कृषि कानून को किसानों के अलावा सामान्यजन के लिए भी समस्या पैदा करने वाला बताया। उन्होंने कहा कि आवश्यक वस्तु अधिनियम में परिवर्तन करके जिस तरह से कॉर्पोरेट्स को आवश्यक सामग्रियों को असिमित भंडारण की छूट दी है उससे सामान्य जन महंगाई के बोझ से दब जाएगा।

उन्होंने कहा कि क्रन्द्र सरकार 35 रुपये लीटर वाले पेट्रोल और डीजल पर 50 रुपये एक्साइज, सेस और सेवाकर ले रही है। वहीं राज्य सरकार 16 रुपये सेवा प्रभार ले रही है। उन्होंने बताया कि जीएसटी पुनर्भरण राशि राजस्थान को केन्द्र सरकार द्वारा नहीं दिऐ जाने के बाद भी जिस तरह से जन कल्याणकारी कार्यों को अंजाम दिया जा रहा है वह सराहनीय है।

सिरोही में नव निर्मित तहसील के उद्घाटन में उपस्थित लोग।
सिरोही में नव निर्मित तहसील के उद्घाटन में उपस्थित लोग।

जिला कलक्टर भगवती प्रसाद ने अपने स्वागत उद्बोधन में तहसील भवन की जानकारी देकर अवगत कराया कि 253 लाख रूपए की लागत के इस भवन का निर्माण 15 मार्च, 2019 से प्रारंभ होकर 28 अक्टूबर, 2020 को पूर्ण हुआ।

उन्होंने बताया कि सम्पूर्ण तहसील का क्षेत्रफल 117520 हैक्टर, सिरोही तहसील में 88 गांव, 34 पटवार मंडल, 9 भू.अ.निरीक्षक वृत एवं एक उप तहसील कालन्द्री है। इसे दृष्टिगत रखते हुए भवन में पर्याप्त मात्रा में कक्षों का निर्माण किया गया है। ताकि आमजन के कार्य सुविधा पूर्वक हो सके।
नगर परिषद सभापति सिरोही महेन्द्र मेवाड़ा ने अपने उद्बोधन में में कहा कि तहसील के नवनिर्मित भवन से आमजन को काफी सुगमता रहेगी।
इस अवसर पर फिता काटकर शिलालेख का अनावरण कर नवनिर्मित भवन का विधिवत उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष टांक, अतिरिक्त जिला कलक्टर गितेश श्रीमालवीय, पूर्व विधायक गंगाबेन गरासिया, पूर्व जिला प्रमुख अनाराम बोराणा, महिला जिला कांग्रेस अध्यक्ष हेमलता शर्मा, उपसभापति जितेन्द्र सीघी, राजेन्द्र सांखला, संध्या चैधरी, पूर्व यू.आई.टी. अध्यक्ष हरीश चैधरी, अभीभाषक संघ के अध्यक्ष एड्वोकेट मानसिंह देवड़ा सहित अधिकारी एवं गणमान्य नागरीक उपस्थित थे।
इस अवसर पर फिता काटकर शिलालेख का अनावरण कर नवनिर्मित भवन का विधिवत उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष टांक, अतिरिक्त जिला कलक्टर गितेश श्रीमालवीय, पूर्व विधायक गंगाबेन गरासिया, पूर्व जिला प्रमुख अनाराम बोराणा, महिला जिला कांग्रेस अध्यक्ष हेमलता शर्मा, उपसभापति जितेन्द्र सीघी, राजेन्द्र सांखला, संध्या चैधरी, पूर्व यू.आई.टी. अध्यक्ष हरीश चैधरी, अभीभाषक संघ के अध्यक्ष एड्वोकेट मानसिंह देवड़ा सहित अधिकारी एवं गणमान्य नागरीक उपस्थित थे।

-प्रभारी सचिव ने बताई अंदर की बात
इस कार्यक्रम में जिले के प्रभारी सचिव पीसी किशन भी आए। अपने संबोधन में उन्होंने बताया कि राजीव गांधी सेवा केन्द्र का नाम अटल सेवा केन्द्र करने को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री को किस तरह लोगों ने भ्रमित किया। उन्होंने बताया कि यह नरेगा के तहत बने हुए थे, ऐसे में इसका नाम बदलने का अधिकार केन्द्र सरकार को नरेगा एक्ट में परिवर्तन करने के बाद ही किसी सरकार को था।

लेकिन, पूर्व मुख्यमंत्री को दिगभ्रमित करके इसका नाम बदला गया जिसकी परिणिति यह हुई की सिरोही विधायक के प्रयासों से न्यायालय ने फिर से इसका नाम राजीव सेवा केन्द्र किया। उन्होंने कहा कि जिले का प्रशासनिक ढांचा सुव्यस्थित है एवं जिला कलक्टर भगवती प्रसाद के अथक प्रयासों से कई जन कल्याणकारी योजनाओं में सिरोही जिला अग्रणीय है।