फारुक अब्दुल्ला नेशनल कांफ्रेंस के फिर से अध्यक्ष बने

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में नेशनल कांफ्रेस (नेकां) ने सोमवार को पार्टी अध्यक्ष के रूप में फारुक अब्दुल्ला को फिर से निर्विरोध चुन लिया। अब्दुल्ला (85) को यहां नसीम बाग में पार्टी के संस्थापक शेख अब्दुल्ला के मकबरे के पास आयोजित पार्टी के प्रतिनिधि सत्र में सर्वसम्मति से नेकां प्रमुख चुना गया।

अगले कार्यकाल तक अपने पुन: चुने जाने पर अब्दुल्ला ने कहा कि वह अध्यक्ष के रूप में बने रहने के इच्छुक नहीं है, लेकिन मेरी पार्टी के लोगों ने जोर देकर कहा कि मैं इस महत्वपूर्ण समय पर छोड़ कर नहीं जा सकता। इसलिए मैं पार्टी के सहयोगियों की बात मानने के लिए सहमत हो गया, लेकिन मेरा उन्हें सुझाव है कि पार्टी का नेतृत्व करने के लिए अगली पीढ़ी को तैयार करना चाहिए।

अब्दुल्ला ने कहा कि पार्टी अब से किसी भी चुनाव का बहिष्कार नहीं करेगी। वर्ष 2018 में पंचायत चुनावों का बहिष्कार करना एक बड़ी गलती थी। लेकिन अब से हम किसी भी चुनाव का बहिष्कार नहीं करेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा पर उन्होंने कहा कि वह उनसे चुनाव लड़ने के लिए जोर देंगे। उन्होंने कहा कि नेकां के अध्यक्ष के तौर पर मैं इस बात पर जोर देता हूं कि उन्हें चुनाव लड़ना है। उन्होंने सुरक्षा बलों और सरकार को जम्मू-कश्मीर के चुनावों में हस्तक्षेप न करने की भी चेतावनी दी और कहा कि लोगों को तय करने दें कि किसे वोट देना है।

इस बीच भारतीय जनता पार्टी के जम्मू कश्मीर के प्रवक्ता अल्ताफ ठाकुर ने अब्दुल्ला के सुरक्षा बलों और सरकार को चुनावों में हस्तक्षेप न करने की चेतावनी देने पर कहा कि वे दिन गए जब नेकां चुनाव जीतने के लिए सुरक्षा बलों और आधिकारिक मशीनरी का इस्तेमाल करती थी जैसा कि 1987 के चुनावों में किया गया था। ठाकुर ने कहा कि भाजपा देशभर में पारदर्शी राजनीति कर रही है और जम्मू-कश्मीर कोई अपवाद नहीं है क्योंकि पार्टी पारदर्शिता में विश्वास करती है।

अब्दुल्ला ने पिछले महीने पार्टी नेताओं को सूचित किया कि वह अध्यक्ष के रूप में बने रहने के इच्छुक नहीं है। उनके इस निर्णय के बाद नेकां ने पार्टी में पांच दिसंबर को अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए अधिसूचना जारी की।

पार्टी अध्यक्ष पद के लिए किसी भी अन्य उम्मीदवार के नामांकन दाखिल नहीं किया था। ऐसे में आज पार्टी के प्रतिनिधियों ने ध्वनि मत से डॉ. फारूक अब्दुल्ला को फिर से पार्टी अध्यक्ष चुना लिया। इसके लिए पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला एवं पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं ने सांसद फारूक अब्दुल्ला को बधाई दी है।

फारुक अब्दुल्ला ने 1981 से, 2002 से 2009 तक पार्टी अध्यक्ष के रूप में नेकां की सेवा की। अब्दुल्ला पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन (पीएजीडी) के अध्यक्ष भी हैं।