फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी कर रहे पांच अध्यापकों बर्खास्त किया

फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी कर रहे पांच अध्यापकों बर्खास्त किया
फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी कर रहे पांच अध्यापकों बर्खास्त किया

सिद्धार्थनगर | उत्तर प्रदेश में सिद्धार्थनगर जिले में फर्जी शैक्षणिक प्रमाण पत्रों के आधार पर नौकरी कर रहे प्राइमरी स्कूल के पांच सहायक अध्यापकों को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बर्खास्त कर दिया है।

आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि बर्खास्तगी की चपेट में आए सहायक अध्यापकों में मनोज मिश्रा बढ़नी ब्लॉक के ओदही कला प्राइमरी स्कूल, रोहित कुमार तिवारी डुमरियागंज के जंगलीपुर, राजकुमार सिंह और सुधा यादव जोगिया ब्लॉक के आम-हवा और विकास बाबू इटवा ब्लाक के झुरिया प्राइमरी स्कूल पर तैनात थे। सूत्रों ने बताया कि पांचों बर्खास्त सहायक अध्यापकों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है।
सूत्रों ने बताया कि बर्खास्त अध्यापक दूसरे जिलों के हैं और दो साल पहले वर्ष 2016 में सहायक अध्यापक पद पर भर्ती हुए थे। सूत्रों ने बताया की पांचों सहायक अध्यापकों की बर्खास्तगी के बाद जिलाधिकारी ने वर्ष 2016 के जिले में भर्ती सभी 613 सहायक अध्यापकों के अभिलेखों की जांच के लिए मुख्य विकास अधिकारी हर्षिता माथुर की अध्यक्षता में एक जांच कमेटी गठित की है।