झारखंड में भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा का निधन

Former BJP state president Laxman Giluwa dies in Jharkhand
Former BJP state president Laxman Giluwa dies in Jharkhand

रांची। भारतीय जनता पार्टी के झारखंड के पूर्व अध्यक्ष और सिंहभूम के पूर्व सांसद लक्ष्मण गिलुवा नहीं रहे। वह 56 वर्ष के थे।

कोरोना पॉजिटिव होने के बाद उन्हें इलाज के लिए टाटा मोटर्स अस्पताल जमशेदपुर में भर्ती कराया गया था। जहां इलाज के दौरान कल देर रात दो बजकर 10 मिनट पर उन्होंने अंतिम सांस ली। गिलुवा 1999 में पहली बार लोकसभा के सदस्य बने थे और फिर उन्हें 2014 में लोकसभा का सदस्य बनने का श्रेय मिला था।

गिलुवा के निधन पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश, कृषिमंत्री बादल, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता समेत विभिन्न दलों के नेताओं-कार्यकर्त्ताओं ने शोक-संवेदना जतायी है।

मुख्यमंत्री सोरेन ने अपने शोक संदेश में कहा कि पूर्व सांसद और पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा के निधन की सूचना से वे अत्यंत मर्माहत है। उन्होंने गिलुवा को एक सरल स्वभाव का व्यक्ति बताते हुए कहा कि झारखंड की राजनीति में उनकी कमी हमेशा खलेगी। परमात्मा दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान कर परिवार को दुःख की घड़ी सहन करने की शक्ति दें।

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि झारखंड प्रदेश भाजपा के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद लक्ष्मण गिलुआ के निधन का दुःखद समाचार मिला। उनके निधन से पार्टी को अपूरणीय क्षति हुई है। भगवान उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान प्रदान करें और उनके परिवार को यह दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करें।

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने अपने शोक संदेश में कहा कि लक्ष्मण गिलुवा के निधन की सूचना से मन दुःखी है, वे उनके अभिभावक तुल्य थे, जनहित के मामलों में उनकी सक्रियता अतुलनीय थी, आज झारखंड ने एक कुशल राजनीतिक खोया हैं, जिसकी कमी सदैव खलेगी।

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा के निधन पर कृषि मंत्री बादल ने दुख प्रकट करते हुए कहा कि लक्ष्मण गिलुवा राजनीति मे पार्टी से ऊपर उठकर सोचने वालों में से थे, उनका यूं चला जाना अपूरणीय क्षति है, इस दुख की घड़ी में ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें और उनके परिजनों को दुख सहने की शक्ति दें।

लक्ष्मण गिलुवा ने भाजपा उम्मीदवार के रूप में दो बार उन्होंने सिंहभूम संसदीय क्षेत्र से जीत हासिल की और दो बार चक्रधरपुर विधानसभा से क्षेत्र से विधायक भी रहे। उनके निधन से भाजपा को क्षति हुई है। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के पद पर रहते हुए वह सिंहभूम संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा की पत्नी गीता कोड़ा से चुनाव हार गए थे। उनकी पत्नी एवं परिवार के अन्य सदस्य भी कोरोना वायरस संक्रमित हैं। वे अपने पीछे पत्नी दो बेटे एक बेटी एवं भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं।