हरियाणा : अशोक तंवर ने की नया संगठन बनाने की घोषणा

करनाल। हरियाणा कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने आज नया संगठन बनाए जाने की घोषणा की। अपने जन्मदिन पर समर्थकों के ‘स्वाभिमान दिवस‘ के रूप में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व सांसद डॉ़ तंवर ने कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि लोग टीना (कोई विकल्प नहीं) के कारण ही इन पार्टियों को चुनते हैं इसलिए राज्य में नया विकल्प खड़ा करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि डॉ. भीमराव अंबेडकर, सर छोटू राम, राव तुलाराम, शहीद ए आजम भगत सिंह, चन्द्र शेखर आजाद, शहीद ऊधम सिंह आदि महापुरुषों के विचारों पर आदर्श एवं स्वाभिमानी व्यवस्था को कायम करने के लिए राज्य स्तर पर काम होगा।

डॉ़ तंवर ने बाबा साहब अंबेडकर के कथन ‘जिनका स्वाभिमान मर चुका है, वही गुलाम हैं’ और कांशीराम के कथन ‘स्वाभिमानी लोग ही संघर्ष की भाषा समझते हैं’ से अपना संबोधन आरम्भ करते हुए कहा कि आज उसी स्वाभिमान का सहारा लेकर वे नई लड़ाई के लिए तैयार हैं।

तमिलनाडु, यूपी, बिहार, उड़ीसा, बंगाल, गुजरात आदि राज्यों का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि कई दशकों से कांग्रेस की वापसी इन राज्यों में नहीं हुई। उन्होंने कहा कि इसी तरह हरियाणा में भी यही मॉडल आरम्भ हो चुका है।

उन्होंने कांग्रेस के आरक्षण बचाने व अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम में संशोधन का विरोध करने को ‘ढोंग‘ बताते हुए कहा कि अगर पदोन्न्ति में आरक्षण की चिंता पहले होती तो हरियाणा में बैकलॉग नहीं खड़ा होता। अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम ढंग से लागू किया गया होता तो गोहाना, मिर्चपुर, भगाना जैसी घटनाएं नहीं होती।

उन्होंने कहा कि आज दलितों के लिए सड़क पर उतरने का नाटक करने वाली पार्टी को यह नहीं भूलना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट में जिस अपील पर हाल का निर्णय आया है उस अपील को 2012 में कांग्रेस उत्तराखंड में हरीश रावत की कांग्रेस सरकार ने दाखिल किया था।

उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए)-राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) देश की सवा सौ करोड़ आबादी को नोटबन्दी की तर्ज पर लाइन में खड़ा करने का ‘तुगलकी‘ फरमान है। उन्होंने कहा कि इस कार्य पर साढ़े चार लाख करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है जबकि आज बैंक आठ लाख करोड़ के एनपीए की वजह से डूबने की कगार पर है।

डॉ़ तंवर ने भाजपा पर लोगों को जाति-धर्म के नाम पर बांटने का आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली में पार्टी की नफरत की रोटी सेंकने की योजना भी धरी रह गई। उन्होंने आरोप लगाया कि देश मे नफरत का आज ऐसा माहौल खड़ा हो गया दिल्ली के गार्गी कॉलेज में ‘जय श्री राम‘ का नारा लगाते हुए बेटियों को छेड़ने का काम हुआ।