खालिदा जिया की अस्वस्थ्ता से गरमाई बांग्लादेश की राजनीति

ढाका। बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) अध्यक्ष एवं बंगलादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के अचानक अस्वस्थ हो जाने और उनके उपचार के लिए उन्हें विदेश ले जाने की मांग को लेकर पार्टी सांसदों के इस्तीफा दिए जाने की चेतावनी से देश की राजनीति का पारा गर्म हो गया है।

भ्रष्टाचार के मामले में जेल में सजा काट रही जिया इन दिनों बीमार है और राजधानी ढाका के एवरकेयर अस्पताल में भर्ती है। उनके छोटे भाई शमीम इस्कंदर ने उन्हें बेहतर इलाज के लिए विदेश भेजने की अपील की है।

बीएनपी के महासचिव मिर्जा फखरूल इस्लाम आलमगीर ने कहा है कि जिया मौत के कगार पर हैं। उन्होंने सरकार से पूर्व प्रधानमंत्री को बेहतर इलाज के लिए तुरंत विदेश ले जाने की अनुमति देने का निवेदन किया है। इसके अलावा गठबंधन में शामिल 20 पार्टियों ने भी यह आग्रह किया है।

जिया को विदेश भेजने की अनुमति नहीं दिए जाने पर इस्तीफा देने की चेतावनी देने वाले सांसदों ने कहा कि बीएनपी अध्यक्ष के साथ अगर कुछ होता है तो उसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी और वे संसद से बाहर आ जाएंगे।

सांसदों का कहना है कि अनुच्छेद 401 के मुताबिक सरकार चाहे तो किसी को रिहा कर सकती है अथवा उसे इलाज के लिए विदेश भेज सकती है या उसकी पूरी सजा माफ की जा सकती है।

बीनएपी सांसद सिराज की मांग के प्रत्युत्तर में विधि मंत्री अनिसुल हक ने संसद में कहा कि बीएनपी जो मांग कर रही है वह कानून की किताबों में नहीं है। वह मुझे जितना चाहे गाली दे सकते हैं, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। मैं कानून का पालन करूंगा। बीएनपी नेताओं का कहना है कि उन्हें अभी उम्मीद है कि प्रधानमंत्री शेख हसीना अवामी लीग की बैठक में इस पर विचार करेंगी।