पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा का निधन, चांडी में हुआ अंतिम संस्कार

जोधपुर। राजस्थान सरकार में पूर्व केबिनेट मंत्री महिपाल मदेरणा का रविवार को निधन हो गया। मदेरणा की उम्र 69 वर्ष थी। वह वे पिछले काफी समय से मुंह के कैंसर से पीडित थे और बाद में उन्हें कोरोना भी हो गया था।

हालांकि कोरोना से वे काफी ठीक हो गए थे। मदेरणा ने सुबह सवा छह बजे अपने जोधपुर स्थित पैतृक निवास पर अंतिम सांस ली। मदेरणा की पार्थिव देह को उनके पैतृक गांव चाडी ले जाया गया। मदेरणा की पुत्री विधायक दिव्या मदेरणा ने अपने पिता को मुखाग्नि दी। उनके पिता पूर्व विधानसभा अध्यक्ष स्वर्गीय परसराम मदेरणा की समाधि के पास ही उनका अंतिम संस्कार किया।ब इस अवसर पर स्वर्गीय अशोक मदेरणा के पुत्र राघव मदेरणा मौजूद थे।

भंवरी देवी मामले में आरोपी मदेरणा को करीब महीने भर पहले ही उच्च न्यायालय से जमानत मिली थी। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मदेरणा का जन्म दिग्गज कांग्रेसी नेता एवं पूर्व विधानसभा अध्यक्ष स्वर्गीय परसराम मदेरणा के घर पांच मार्च 1952 को जोधपुर जिले के लक्ष्मण नगर चाडी गांव में हुआ था। उन्होंने जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय जोधपुर से बीए एलएलबी तक की पढ़ाई की। उनके पिता स्वर्गीय परसराम मदेरणा एवं बड़े भाई अशोक का पूर्व में निधन हो चुका है।

उनकी पत्नी लीला मदेरणा वर्तमान में हाल के पंचायत चुनावों में जोधपुर की जिला प्रमुख बनी हैं और दो पुत्रियां दिव्या मदेरणा और रूपल मदेरणा हैं। जिनमें से दिव्या मदेरणा वर्तमान में इस परिवार की तीसरी पीढ़ी के रूप में राजनीति संभालते हुए वर्तमान में जोधपुर जिले की ओसियां से विधायक हैं।

महिपाल मदेरणा करीब 18 साल से अधिक समय तक जोधपुर के जिला प्रमुख रहने के साथ ही वर्ष 2003 से 2008 तक भोपालगढ़ विधानसभा क्षेत्र एवं 2008 से 2013 तक ओसियां से विधायक रहने के साथ ही तत्कालीन अशोक गहलोत सरकार में जलदाय विभाग के कैबिनेट मंत्री भी रहे।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने श्री मदेरणा के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए ईश्वर से उनके परिजनों को इस दुख सहने की हिम्मत प्रदान करने की प्रार्थना की है।