जानिए निर्जला एकादशी व्रत की कथा

Dry Fasting Benefits, hindu, Nirjala Ekadashi, Nirjala Ekadasi, Nirjala Ekadasi Significance, sabguru news
Dry Fasting Benefits, hindu, Nirjala Ekadashi, Nirjala Ekadasi, Nirjala Ekadasi Significance, sabguru news
निर्जला एकादशी का सभी ने नाम सुना होगा लेकिन निर्जला एकादशी की कथा के बारे में आप में से बहुत ही कम लोग जानते हैं आज किस पोस्ट में आपको निर्जला एकादशी की कथा के बारे में ही बताया जाएगा।

निर्जला एकादशी की पूरी कहानी

एक बार बहुभोजी भीमसेन ने व्यासजीके मुख से प्रत्येक एकादशी को निराहार रहने का नियम सुनकर विनम्र भाव से निवेदन किया कि ‘महाराज! मुझसे कोई व्रत नहीं किया जाता। दिन भर बड़ी तीव्र क्षुधा बनी ही रहती है। अतः आप कोई ऐसा उपाय बताइए जिसके प्रभाव से स्वत: सद्गति हो जाए। तब व्यासजी ने कहा कि ‘तुमसे वर्षभर की सम्पूर्ण एकादशी नहीं हो सकती तो केवल एक निर्जला कर लो, इसीसे सालभर की एकादशी करने के समान फल हो जाएगा। तब भीम ने वैसा ही किया और स्वर्ग को गए। इसलिए यह एकादशी भीमसेनी एकादशी के नाम से भी जानी जाती है।

निर्जला एकादशी व्रत की छुपी हुई ये बातें भी यहाँ मिलेगी