छात्र से टीचर ने पूछा बताओ एक साल में कितनी रात्रि होती हे..

Funny jokes feb month teacher and student aur pati and patni

ग्रामर की टीचर पप्पू से –
संदीप अब शराब नहीं पीता है।
इसमें संदीप क्या है ??
?
?
?
?
पप्पू –इसमें संदीप माता रानी का भगत है और
उसने नवरात्रि का व्रत रखा हुआ है।

=========================

राहुल गांधी – गुजरात में बिलकुल भी शांति नहीं है,
मैंने अपनी आँखों से देखा है कि सैकड़ों लोग
छोटी-छोटी लाठियों से लड़ रहे थे
.
मोदी – अरे पप्पुजी, उसे डांडिया कहते है

=========================

छात्र से टीचर ने पूछा बताओ एक साल में कितनी रात्रि होती हे..

छात्र– 10 रात्रि

टीचर — 10 कैसे

छात्र- 9 नवरात्री ओर 1 शिवरात्रि

टीचर अभी तक कोमा में हैं

=========================

पति:- नवरात्रि का व्रत है ??

पत्नी :- हाँ जी

पति:- कुछ खाया ?

पत्नी:- जी कुछ ख़ास नहीं

पति:- फिर भी क्या खाया ?

पत्नी:- केला,सेव,अनार ,मूंगफली, फ्रूट क्रीम, आलू की टिक्की, साबूदाने कीखीर,

साबूदाने के पापड़, कुट्टू की पूरी, सावंख के चावल,

सिंघाड़े का आटे का हलवा, खीरा, सुबह-सुबह चाय और अब जूस पी रही हूँ।

पति:- बहुत सख्त व्रत रख रही हो, यह हर किसी के बस का कहाँ है।

और कुछ खाने की इच्छा है ? देखलो कहीं कमज़ोरी न आ जाए।

=========================

रमेश (फोटो दिखाते हुए):- ये हैं वो लड़की जिस से मेरी शादी होने वाली हैं।

सुरेश:- अरे इसे तो मैं अच्छे से जानता हूँ।

रमेश:- कमीने तू इसे कैसे जानता हैं ?

सुरेश:- ये और मैं एक साथ सोते हुए पकड़े गए थे।

रमेश (आश्चर्य से):- क्या ? कब ?

सुरेश:- अरे गणित की क्लास में… ये मेरी क्लास में पढ़ती थी।

=========================

आदमी – भगवान मेरी मदद करो।

भगवान – क्या हुआ मेरे बच्चे ?

आदमी – भगवान मै क्या करुं ?

परिवार के लिए कमाऊं या उनके साथ समय व्यतीत करुं ?

भगवान – मैने तुम्हें मर्द बनाया है,

इसलिए तुम रोजी-रोटी भी कमाओ और परिवार का ध्यान भी रखो।

आदमी – पर कैसे ?

यदि मैं अपनी नौकरी पर ध्यान लगाता हूं

तो परिवार को समय नहीं दे पाता,

और परिवार मे ध्यान लगाऊ तो नौकरी ठीक से नहीं कर पाता ?

भगवान – इसलिए मैंने इतवार बनाया है,

इस दिन को परिवार के साथ बिताओ और बाकी 6 दिन मन लगाकर नौकरी करो।

आदमी – पर भगवान मै तो media में हूँ।

भगवान – ओ तेरी!!
फिर मुझे माफ करना!!!

=========================