पत्नी – क्यों जी, गेहूं कहां पिसवाया आपने ?

एक बाबा एक शराबी से बोले – इतना दारू पियोगे तो मरने के बाद नर्क में जाओगे।

शराबी – तो जो दारू बेच रहा है, उसका क्या होगा?
बाबा – वो भी नर्क में जाएगा।
शराबी – फिर जो आदमी शराब की दुकान के सामने नमकीन बेचता है, उसका क्या होगा?
बाबा – उसको भी नर्क में ही जाना पड़ेगा।
शराबी – तो फिर क्या दिक्कत है, नर्क ही ठीक है मेरे लिए…!!!
=========================
पत्नी – क्यों जी, गेहूं कहां पिसवाया आपने ?

पति (सहमकर) – हमेशा वाली जगह पर।

पत्नी – तो गेहूं देकर कहीं सैर सपाटा करने चले गए होंगे ?

पति  – कहीं तो नहीं गया, वहीं रूका था।
पत्नी – ध्यान कहां रहता है आपका… आती-जाती औरतों को देखते होंगे, खूब जानती हूं आपको।
पति  (अब पूरी तरह घबराकर) – सच में वहीं सामने खड़े होकर आटा पिसवाया।
पत्नी – झूठ मत बोलो, पूरा ध्यान व्हाट्सएप में होगा, बहुत दिनों से देख रही हूं घर के काम में आपका बिल्कुल ध्यान नहीं रहता।
पति  – नहीं, ऐसा कुछ भी नहीं है, बताओ तो हुआ क्या?
पत्नी – रोटियां कैसे जल गईं फिर…!!!
पति को 4 घंटे बाद अभी होश आया…
=========================
पिताजी:- पढ़ेगा नहीं तो क्या करेगा?
बेटा :- बस चलाऊंगा, फिर अपनी बस लूंगा, आम के बाग खरीदूंगा, बीवी को पढ़ाऊंगा कलेक्टर बनाऊंगा, आपके नाम पर हॉस्पिटल खोलूंगा….
पिताजी ने चप्पल निकाली :
आज फिर सेटमैक्स पर सूर्यवंशम देख ली…
=========================
पति (पत्नी से) – यह शीशा तुम्हारे कारण टूटा है।
पत्नी – बिल्कुल नहीं, तुम्हारे कारण टूटा है…
मैंने तुम्हें जब बेलन फेंककर मारा, तब तुम अगर अपनी जगह पर ही खड़े रहते तो यह शीशा नहीं टूटता…!
=========================
जज – तुम्हारा जुर्म साबित हो चुका है, कल तुमको फांसी पर चढ़ाया जाएगा…
बनिया – वो तो ठीक है, लेकिन उतारा कब जाएगा, दुकान भी तो खोलनी है…!!!
=========================
संता (बंता नाई) से- मेरे गालों पर गड्ढे हैं जिसकी वजह से शेव ठीक से नहीं बनती, बाल छूट जाते हैं।
बंता ने दराज से लकड़ी की गोली निकाली और संता को देते हुए बोला – इसे दांतों के बीच गाल की तरफ दबा लो।
….
….
संता ने वैसा ही किया, एक तरफ शेव बनने के बाद लकड़ी की गोली दूसरी गाल की तरफ दबाने को कहा, तो रमन ने शंका जाहिर की और बोला- यह लकड़ी की गोली अगर मेरे पेट में चली गई तो….।
…..
….
बंता नाई ने जवाब दिया- तो क्या हुआ, कल लौटा देना, जैसे दूसरे लोग लौटा कर जाते हैं।
संताअभी तक उल्टियां कर रहा है…