पीलीभीत में गैंगरेप से आहत होकर बेटी ने दी थी जान

पीलीभीत। उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में किशोरी के फंदा लगाकर जान देने के सन्दिग्ध मामले में महिला आयोग से की गई शिकायत पर अब तीन माह बाद नया मोड़ आया है। किशोरी की मां ने गांव के चार लोगों पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाते हुए खुदकुशी की वजह बताया।

गजरौला थाना क्षेत्र की एक महिला ने राज्य महिला आयोग को भेजे शिकायती पत्र में कहा कि पिछले 19 मार्च की शाम सात बजे वह पति और बेटे संग गांव में ही वैवाहिक कार्यक्रम में गयी थी। पुत्री घर पर ही अकेली छोड़ गई थी। आरोप है कि इस बीच गांव के चार युवक घर पहुंचे और कोल्ड ड्रिंक में नशा देने के बाद बेटी को नजदीक के बाग में ले जाकर सामूहिक दुष्कर्म किया।

करीब दो घंटे बाद जब वह वापस घर आई तो बेटी घर से 200 मीटर दूर बाग में बेसुध मिली। बेटी ने पूरी बात उसको बताई। आरोप है कि अगले दिन 20 मार्च की सुबह आरोपी घर आए और कार्रवाई करने पर जान से मारने की धमकी दी। इससे घबराकर बेटी ने फंदा लगा लिया, बरेली के अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। शव का पोस्टमार्टम भी कराया गया।

गजरौला पुलिस को तहरीर दी गई, मगर रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई। उधर, गांव के कुछ लोगों ने पंचायत कर पीड़िता का ही सामाजिक बहिष्कार कर दिया। महिला आयोग में पत्र भेजकर किशोरी की मां ने न्याय की गुहार लगाई। पुलिस ने कहा कि मामला संज्ञान में है। इस संबंध में तहरीर मिली है। उसकी गहनता से जांच कराई जा रही है। अभी तक किशोरी की पोस्टमार्टम भी नहीं मिली है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।