सेवा भारती के अभिरुचि शिविरों में बालिकाओं ने सीखें आत्मरक्षा के गुर

जयपुर। सेवा भारती महिला मंडल ने एक हजार से अधिक बालिकाओं को स्वावलंबन राष्ट्र भक्ति और आत्म रक्षा के गुर सिखाए।

महिला मंडल के 20 दिन से अधिक चले शिविरों में दलित एवं कमजोर वर्ग की बालिकाओं को कंप्यूटर, सिलाई, ब्यूटी पार्लर, ज्वेलरी डिजाईनिंग एवं राखी निर्माण की कला सिखा कर आर्थिक रूप से स्वावलंबी बनने के लिए प्रेरित किया।

संगठन के राजस्थान क्षेत्र महिला मंडल प्रमुख अनिल शुक्ला ने बताया कि प्रदेश के कोटपूतली, भिवाड़ी, करौली-सपोटरा, धौलपुर, टोंक-टोड़ा रायसिंग, सांभर-बोराज, जयपुर (विधाधर नगर, केशव नगर, मानसरोवर), अजमेर, उदयपुर, उदयपुर-कृष्णपुरा, कोटा-रावतभाटा में बाल अभिरुचि शिविर लगाए गए।

शिविरों के दौरान बच्चियों में नेतृत्व का गुण विकसित करने के लिए भाषण ज्ञान सिखाया गया। अभिरुचि विकसित करने के लिए नृत्य नाटिका का प्रशिक्षण दिया गया। जूड़ो-कराटे सिखाकर आत्मरक्षा योग्य बनाया गया।

मेंहदी, संगीत, चित्रकला, में बच्चियों की अभिरुचियों को जागृत करने का काम शिविर के दौरान किया गया। ये बालिकाएं अब राष्ट्र निर्माण के कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रही हैं, जिसकी शुरुआत योग दिवस से हुई, जहां बच्चियों ने न सिर्फ योग किया बल्कि एक सूत्र में बांधने का सन्देश भी दिया।