वैश्विक रुख, वित्तीय परिणाम से तय होगी शेयर बाजार की दिशा

मुंबई। बीते सप्ताह गिरावट में रहने वाले शेयर बाजार की दिशा अगले सप्ताह वैश्विक रुख, कच्चे तेल की कीमतों, भारतीय मुद्रा की चाल और कंपनियों के वित्तीय परिणाम से तय होगी।

समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 687.49 अंक यानी 1.93 प्रतिशत की साप्ताहिक गिरावट के साथ 34,848.30 अंक पर एनएसई का निफ्टी 210.10 अंक यानी 1.94 प्रतिशत लुढ़ककर 10,596.40 अंक पर बंद हुआ।

इस अवधि में बीएसई का मिडकैप 448.31 अंक यानी 2.74 प्रतिशत फिसलकर 15,895.68 अंक पर और स्मॉलकैप 491.31 अंक यानी 2.76 प्रतिशत की गिरावट में 17,326.78 अंक पर बंद हुआ।

अगले सप्ताह 22 मई को डॉ रेड्डीज, सिप्ला, बाटा इंडिया, भारतीय स्टेट बैंक, आंध्रा बैंक और आईओसी , 23 मई को टाटा मोटर्स और जेट एयरवेज, 24 मई को गेल तथा ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन और 25 मई को सन फार्मा, टेक महिंद्रा, कैडिला हेल्थकेयर, एनबीसीसी, बैंक ऑफ बड़ौदा तथा बीईएमएल के वित्तीय परिणाम जारी होने हैं।

विश्लेषकों के मुताबिक बीते सप्ताह शनिवार को कर्नाटक में हुए राजनीतिक ड्रामे का असर भी अगले सप्ताह शेयर बाजार पर दिखेगा। शुक्रवार को मुख्यमंत्री पद के लिए शपथ ग्रहण करने वाले भारतीय जनता पार्टी के बीएस येदियुरप्पा को हाई वॉल्टेड राजनीतिक ड्रामे के बीच शनिवार को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा।

निवेशकों ने इस घटना के बाद यह कयास लगाने शुरू कर दिए हैं कि क्या 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा दोबारा सत्ता में आ पाएगी।

वैश्विक स्तर पर अमेरिकी बांड यील्ड के सात साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचने और अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार छठे सप्ताह रही तेजी का असर भी घरेलू शेयर बाजार पर पड़ेगा।

वेनेजुएला के उत्पादन में कमी, अमेरिकी तेल भंडार में कमी और ईरान और अमेरिका के बीच जारी तनातनी से कच्चे तेल की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं। कच्चे तेल की बढ़ती कीमत से भारत का आयात बिल बढ़ जाता है और महंगाई दर बढ़ने की आशंका तेज हो जाती हैं। आयातकों की डॉलर लिवाली बढ़ने से भारतीय मुद्रा कमजोर पड़ती है।

समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान पहले दिन सोमवार को अधिकतर विदेशी बाजारों से मिले मजबूत संकेतों के बीच बैंकिंग और तेल एवं गैस समूह में हुई लिवाली से सेंसेक्स 20.92 अंक की मजबूती के साथ 35,556.71 अंक पर और निफ्टी इस दौरान 10,806.60 पर सपाट रहा।

मंगलवार को आम चुनाव के सेमीफाइनल माने जा रहे कर्नाटक विधानसभा चुनावों में केन्द्र में भाजपा को बहुमत नहीं मिलने से शेयर बाजार निराश हो गया और सेंसेक्स ने 450 अंकों की और निफ्टी ने 128 अंकों की बढ़त गंवाई।

कर्नाटक विधानसभा चुनावों की मतगणना शुरू होने पर भाजपा को राज्य में स्पष्ट बहुमत मिलने के रूझान के साथ ही शेयर बाजार ने बढ़त के साथ शुरूआत की। देखते ही देखते सेंसेक्स 36 हजार अंक की ओर बढ़ते हुए 35,993.53 अंक के उच्चतम स्तर पर और निफ्टी 11 हजार अंक की ओर लपकते हुए 10,929.20 अंक तक चढ़ा।

इसी दौरान चुनाव परिणाम आने लगे और भाजपा की सीटें घटने लगीं जिसका असर बाजार पर दिखा और मुनाफावसूली शुरू हो गई जिससे इस दिन की तेजी खाेते हुए सेंसेक्स 2.72 अंक अर्थात 0.04 प्रतिशत गिरकर 35543.94 अंक पर और निफ्टी 4.75 अंक अर्थात 0.04 प्रतिशत उतरकर 10801.85 अंक पर बंद हुआ।

बुधवार को वैश्विक स्तर से मिले नकारात्मक संकेतों के साथ ही घरेलू स्तर पर कर्नाटक विधानसभा चुनावों में भाजपा को बहुमत नहीं मिलने से निराश निवेशकों की बिकवाली का असर इस दिन भी घरेलू शेयर बाजार पर दिखा और सेंसेक्स 155 अंक गिरकर 35,387.88 अंक पर और निफ्टी 60.75 अंक लुढ़कर 10,741.10 अंक पर बंद हुआ।

गुरुवार को अधिकतर विदेशी बाजारों में रही गिरावट के बीच कर्नाटक के चुनाव परिणाम से बढ़ी राजनीतिक गतिविधियों से आशंकित निवेशकों की बिकवाली इस दिन भी जारी रही जिससे सेंसेक्स 238.76 अंक लुढ़ककर 35,149.12 अंक पर और निफ्टी 58.40 अंक फिसलकर 10,682.70 अंक पर बंद हुआ।

शुक्रवार को अधिकतर एशियाई बाजारों से मिले सकारात्मक संकेतों के बावजूद राजनीतिक सरगर्मियों से सर्तक निवेशकों ने लगातार चौथे दिन बिकवाली जारी रखी जिससे सेंसेक्स 300.82 अंक फिसलकर 35,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे 34,846.30 अंक पर और निफ्टी भी 86.30 अंक का गोता लगाता हुआ 10,596.40 अंक पर बंद हुआ।

बीते सप्ताह सेंसेक्स की सात कंपनियां हरे निशान में जगह बना पाई। शेष 23 कंपनियां लाल निशान में रहीं। सप्ताह के दौरान पावर ग्रिड के शेयरों की कीमत में सर्वाधिक 2.63,कोटक बैंक में 2.28, इंडसइंड बैंक में 1.69, एशियन पेंट्स में 1.35, टीसीएस में 1.21, इंफोसिस में 0.23 और एचडीएफसी बैंक में 0.11 फीसदी की तेजी रही।

आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों की कीमत में 7.94 प्रतिशत की गिरावट देखी गई। टाटा मोटर्स में 7.71, टाटा मोटर्स डीवीआर में 7.49, भारती एयरटेल में 6.16, रिलायंस में 5.57, अदानी पोटर्स में 5.42, एल एंड टी में 5.12, भारतीय स्टेट बैंक में 4.66, महिंद्रा एंड महिंद्रा में 3.99, एक्सिस बैंक में 3.71, एचडीएफसी में 3.33, मारुति में 2.58, टाटा स्टील में 2.50, कोल इंडिया में 1.53, सन फार्मा में 1.52, हीरो मोटोकॉर्प्स में 1.50, बजाज ऑटो में 1.38, यस बैंक में 1.29, ओएनजीसी में 1.20, विप्रो में 0.90, एनटीपीसी में 0.72, डॉ रेड्डीज में 0.64, आईटीसी में 0.62 प्रतिशत की साप्ताहिक गिरावट रही।