सोने की फीकी पड़ी चमक, कीमतें औधें मुंह लुढ़की

नई दिल्ली। रूस के कोरोना वायरस (कोविड-19) की वैक्सीन के लांच और अन्य देशों में इसके अनुसंधान पर जोरों से चल रहे अनुसंधान को लेकर बनी सकारात्मक धारणा से पीली धातु के प्रति निवेशकों का आकर्षण कम होने से बुधवार को घरेलू बाजार में लगातार तीसरे दिन कीमतें औधें मुंह लुढ़की।

घरेलू बाजार में बुधवार को 24 कैरेट का सोना 1,325 रुपये सस्ता होकर 52,626 रुपये प्रति दस ग्राम बिका। गत तीन दिनों में यह 56,126 रुपए प्रति दस ग्राम से 3,500 रुपए कमजोर होकर 52,626 रुपए प्रति दस ग्राम पर आ गया। सत्रह जुलाई को सोने की कीमत स्थानीय बाजार में 49,145 रुपए प्रति दस ग्राम थी और तब से इनमें लगातार तेजी दर्ज की जा रही थी।

विदेशी बाजारों में सोने की कीमत की तेजी का सिलसिला अमरीकी बांड यील्ड में आई तेजी से मंगलवार को थम गया। मंगलवार को सोने की कीमतें सात साल में पहली बार एक दिन में 5.7 प्रतिशत लुढ़की। हालांकि, अमरीकी समयानुसार आज बुधवार की सुबह वहां सोना 1.8 प्रतिशत की तेजी के साथ 1,945.84 डॉलर प्रति औंस पर खुला।

विश्लेषकों का कहना है कि आज जारी अमरीका के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक की रिपोर्ट से सोने की कीमतों में तेजी आई है। इस साल अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोना अब तक करीब 30 फीसदी महंगा हुआ है।

विश्लेषकों के मुताबिक कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण आर्थिक गतिविधियां थम गईं और अमरीका जिससे निवेशकों का रुझान सुरक्षित निवेश में बढ़ गया। अमरीका और चीन के बीच तनातनी ने पीली धातु की चमक और तेज कर दी लेकिन कोरोना वैक्सीन को लेकर बीते कुछ दिनों से बाजार में सकारात्मकता बनी हुई है, जिसके दम पर शेयर बाजारों की रौनक लौट रही है और सुरक्षित निवेश में निवेशकों की दिलचस्पी कम हो रही है। चांदी .999 टंच 1143 रुपए टूटकर 71211 रुपए प्रति किलो रह गई।