राफेल की कीमतों के खुलासे पर गोपनीयता शर्त नहीं : कांग्रेस

Government misled nation on Rafale deal, says Congress
Government misled nation on Rafale deal, says Congress

नई दिल्ली। पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने आज कहा कि फ्रांस के साथ 2008 में राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद संबंधी समझौते में कीमतों के खुलासे से संबंधित कोई गोपनीयता शर्त नहीं है और इसके तहत सिर्फ हथियारों के तकनीकी विवरण तथा क्षमता काे गोपनीय रखा जा सकता है।

पूर्व रक्षा मंत्री तथा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एंटनी, वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा तथा संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण इन विमानों की कीमतों में गोपनीयता की शर्त होने की बात करके संसद और देश को गुमराह कर रहे हैं। यह विशेषाधिकार हनन का मामला है, इसलिए कांग्रेस उनके खिलाफ विशेष हनन का प्रस्ताव लाने पर विचार करेगी और इसकी जल्द ही घोषणा की जाएगी।

एंटनी ने कहा कि कि राफेल सौदे में बड़ा घोटाला हुआ है और इसे छिपाने के लिए प्रधानमंत्री तथा रक्षा मंत्री असत्य बोलकर देश की जनता को गुमराह कर रहे हैं। इस सौदे को लेकर फ्रांस के साथ 25 जनवरी 2008 काे समझौता हुआ था और मोदी सरकार इस समझौते का बार-बार हवाला देकर गोपनीयता की बात कर रही है।

सच्चाई यह है कि इस समझौते में कहीं भी कीमतें न बताने की शर्त नहीं है। समझौते में कीमतों को छिपाकर रखने का कहीं जिक्र नहीं है। गोपनीयता बनाए रखने की शर्त सिर्फ हथियारों की मारक क्षमता और उनकी तकनीकी विशेषताओं के विवरण के खुलासे को लेकर है।

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री ने समझौते में गोपनीयता की बात करके गलत सूचना देश की संसद को दी है। इसका सीधा मतलब है कि सौदे में गोपनीयता की बात करके उन्होंने संसद को गुमराह किया है।