कश्मीरी पंडितों की हत्याओं को सख्ती से रोके सरकार : आरिफ मोहम्मद खान

बुलंदशहर। केरल के राज्यपाल और उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर जिले के मूल निवासी आरिफ मोहम्मद खान ने कहा है कि जम्मू कश्मीर में कश्मीरी पंडितों को निशाना बनाकर उनकी हत्या करना, जघन्य अपराध है और सरकार को इसे सख्ती से रोकना चाहिएये।

राज्यपाल खान ने स्याना तहसील के बसी बांगर गांव में संविधान निर्माता भारत रत्न डॉ बाबासाहेब अंबेडकर की मूर्ति के अनावरण समारोह में कहा कि बाबा साहब अंबेडकर सामाजिक समरसता के प्रतीक हैं। उन्होंने देश के संविधान में सभी को समानता का अधिकार दिया है।

उन्होंने कहा कि कश्मीर में कश्मीरी पंडितों को टारगेट बना कर की जा रही हत्याएं शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि स्थिति यह बनी है कि जिसकी हत्या होती है, उसका परिवार आतंकवादियों की दहशत में आकर अपने घर से पलायन कर जाता है। सरकार को इस ओर ध्यान देना चाहिए और कश्मीर से आतंकवाद को जड़ मूल से नष्ट करने के लिए प्रभावी और सख्त कदम उठाने चाहिए।

राज्यपाल ने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त करने और धारा 35ए हटाने के बाद से शांति व्यवस्था बहाल हुई है। वहां जनजीवन सामान्य हुआ है। आतंक आतंकवादियों की सक्रियता में कमी आई है। वहां के लोगों में सुरक्षा की भावना बनी है और क्षेत्र का विकास भी हो रहा है।

उन्होंने कहा कि प्रदेशवासियों को रोजगार के साधन भी उपलब्ध हो रहे हैं, लेकिन ‘टारगेट किलिंग’ निंदनीय है। सरकार को इस ओर ध्यान देना चाहिए। टारगेट किलिंग के दोषियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही करना समय की आवश्यकता है। राज्यपाल ने देशवासियों से बेटे और बेटी में कोई अंतर न समझते हुए दोनों को समान अधिकार देने और बेटियों को भी उच्च शिक्षित करने की अपील की।