कश्मीर में रमजान के दौरान सुरक्षा बल नहीं चलाएगे अभियान

Govt tells security forces not to launch ops in Kashmir for Ramzan, Mehbooba welcomes ‘ceasefire’

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने रमजान के दौरान शांतिपूर्ण माहौल बनाए रखने की दिशा में बड़ी पहल करते हुए सुरक्षा बलों को निर्देश दिए हैं कि वे जम्मू कश्मीर में इस पवित्र महीने में किसी तरह का अभियान न चलाएं।

केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने टि्वटर पर यह जानकारी देते हुए बताया कि सुरक्षा बलों को रमजान के दौरान जम्मू कश्मीर में अभियान नहीं चलाने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही यह स्पष्ट किया गया है कि सुरक्षा बलों पर हमला होने और निर्दोष लोगों की जान बचाने के लिए जरूरी होने पर जवाबी कार्रवाई की जाएगी

सिंह ने कहा कि केन्द्र के फैसले की जानकारी मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को भी दे दी गई है। मुफ्ती ने हाल ही में राज्य में सर्वदलीय बैठक बुलाई थी जिसमें रमजान के दौरान राज्य में संघर्ष विराम का प्रस्ताव पारित किया गया था।

उस समय राज्य में भाजपा के नेताओं ने इस प्रस्ताव की आलोचना की थी लेकिन आज केन्द्र ने अचानक सुरक्षा बलों को इस तरह के निर्देश देकर राज्य में स्थिति सामान्य बनाए रखने की दिशा में बडी पहल की है।

सिंह ने कहा है कि यह निर्णय इसलिए लिया गया है जिससे कि शांतिप्रिय मुस्लिम भाई और बहन शांतिपूर्ण माहौल में रमजान मना सकें। उन्होंने कहा है कि सरकार को उम्मीद है कि सभी इस पहल में सहयोग करेंगे जिससे कि मुस्लिम समुदाय के लोग बिना किसी परेशानी के शांतिपूर्ण ढंग से रमजान मना सकें।

उन्होंने कहा है कि बेवजह आतंक और हिंसा फैलाकर इस्लाम को बदनाम करने वाले तत्वों को अलग थलग करना जरूरी है। रमजान सच्चे अर्थों मे इबादत, पवित्रता और अमन का महीना है। इस्लाम को बदनाम करने वाली प्रवृत्तियों को अलग-थलग करना सबका संयुक्त प्रयास होना चाहिए।

सरकार चाहती है कि रमजान के दौरान समाज के सभी वर्गों, विशेषत: शान्तिप्रिय मुस्लिम समाज, को किसी संकट और कठिनाई का सामना न करना पड़े। इसके लिए यह आवश्यक है कि सभी शांतिप्रिय लोग मिलकर आतंकवादियों को अलग-थलग करें और हिंसा की राह पर गुमराह लोगों को शांति के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करें।

उन्होंने कहा कि मुस्लिम भाइयों को शांतिप्रिय रूप से रमजान मनाने का समुचित वातावरण मिले और आतंकवादी उनकी धार्मिक भावनाओं का शोषण न कर सकें इसको ध्यान में रखते हुए सरकार एक आतंक और हिंसा विहीन वातावरण बनाने का प्रयास कर रही है। इसी भावना से प्रेरित होकर हम अपने सुरक्षा बलों और सेना को रमजान माह में आक्रामक कार्रवाई न करने का आदेश दे रहे हैं।

यह स्पष्ट करना भी आवश्यक है कि आवाम की शांति और सुरक्षा के लिए यदि आतंक के खिलाफ रक्षात्मक कार्रवाई की आवश्यकता हुई तो सुरक्षा बल उचित कार्रवाई करने के लिए बाध्य होंगे। हमें आशा है कि इस्लाम की सच्ची राह पर चलने वाले सभी मुस्लिम भाई-बहन शांति की इस प्रक्रिया में सहयोग देंगे।

गृह मंत्री ने कहा कि विविधता में एकता भारत की विशेषता है। सदियों से विश्व के सभी धर्मों और संप्रदायों को भारत में समुचित सम्मान मिला है। भारत का मूलभूत चिंतन हर पंथ और हर विचार का आदर करना है जौ मानव कल्याण और विश्व कल्याण की भावना से प्रेरित है।

भारत और विश्व के सभी मुसलमान धार्मिकतापूर्वक रमजान मनाते हैं लेकिन यह दुख का विषय है कि पिछले कुछ सालों से रमजान के इस पवित्र माह में भी आतंकवादियों ने भारत मे ही नहीं विश्व के अन्य भागों में भी भारी रक्तपात किया है। इससे सच्चे इस्लाम के मार्ग पर चलने वाले शांतिप्रिय मुसलमान और अन्य समाजों को भारी यातनाएं सहनी पड़ी हैं।