महिला के आरोपों का सामना कर रहे IAS अधिकारी गौरव दहिया निलंबित

gujarat government suspends IAS officer Gaurav Dahiya charged with bigamy

गांधीनगर। गुजरात सरकार ने एक महिला की ओर से लगाए गए गंभीर आरोपों के कारण सुर्खियों में आए 2010 बैच के आईएएस अधिकारी गौरव दहिया को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।

राज्य सरकार ने बुधवार को जारी निलंबन आदेश में कहा है कि दुर्व्यवहार और अनैतिक आचरण संबंधी गंभीर आरोपों का सामना कर रहे दहिया को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जा रहा है। ऐसा अखिल भारतीय सेवा (अनुशासन एवं अपील) नियमावली 1969 के नियम तीन के उपनियम 1 के उपबंध अ के तहत प्रदत शक्तियों का प्रयोग करते हुए किया जा रहा है।

ज्ञातव्य है कि गत माह दिल्ली की एक महिला की ओर से शादीशुदा दहिया पर उससे भी गुपचुप विवाह करने तथा प्रताड़ित करने के बारे में लगाए गए आरोपों की जांच के लिए मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के निर्देश पर वरिष्ठ महिला आईएएस अधिकारी सुनयना तोमर की अगुवाई में पांच सदस्यीय महिला समिति का गठन किया गया था।

लीना नाम की महिला ने आरोप लगाया है कि दहिया (जिन्हें कुछ ही समय पहले राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक पद से स्थानांतरित कर सामान्य प्रशासन विभाग का संयुक्त सचिव बनाया गया था) ने वर्ष 2017 में अपने मेक्सिको प्रवास के दौरान सोशल मीडिया के जरिये उससे दोस्ती की थी और बाद में यह कहते हुए उसे शादी का प्रस्ताव दिया कि उन्होंने अपनी पहली पत्नी को तलाक देने के लिए अर्जी दे रखी है।

उन्होंने उसे नशीला पदार्थ खिला कर उसके आपत्तिजनक चित्र भी ले लिए थे और इन्हें सोशल मीडिया पर अपलोड करने की धमकी भी दी थी। महिला का कहना है कि दहिया ने उससे पिछले साल फरवरी में तिरूपति बालाजी मंदिर में शादी कर ली थी। बाद में उसने एक लड़की को जन्म दिया तो उन्होंने यह कहते हुए उसे प्रताड़ित करना शुरू किया कि उन्हें लड़की नहीं लड़का चाहिए। उन्होंने कथित तौर पर नींद की गोलियों का ओवरडोज देकर मारने की कोशिश भी की।

महिला ने सबसे पहले पिछले माह दिल्ली पुलिस की महिला अपराध शाखा में मामला दर्ज कराया था। इसे बाद में गांधीनगर के सेक्टर सात थाने में स्थानांतरित कर दिया गया। हालांकि दहिया ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए इनसे इंकार किया था और कहा था कि उन्होंने गत जून माह में ही पुलिस और फरवरी में विभाग को इस संबंध मे अपना बयान दे दिया था। महिला के आरोपों को प्राथमिक जांच में सही पाया गया है।

उक्त महिला ने कहा था कि उसके आरोपों को उक्त आईएएस के यात्रा संबंधी दस्तावेज से मिलान करने पर सही पाया जा सकता है। वह अपनी बच्ची की डीएनए जांच के लिए भी तैयार है। वह कभी भी दहिया से शादी नहीं करना चाहती थी क्योंकि उसके परिजन राजी नहीं थे और वह भी उनकी पहली पत्नी से हमदर्दी रखती थीं पर उन्होंने दबाव बना कर ऐसा किया। उन्होंने एक तीसरी युवती से भी शादी की है।