कटारिया ने वैक्सीन को लेकर आ रही समस्या के निराकरण की मांग की

जयपुर। राजस्थान में नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने राज्य में 18 से 44 आयुवर्ग के युवाओं के कोरोना टीका लगाने में आ रही समस्या के निराकरण की राज्य सरकार से मांग की है।

कटारिया ने इस संबंध में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर आज यह मांग की। उन्होंने पत्र में लिखा कि राज्य सरकार के इस निर्णय का सभी ने स्वायगत किया है कि गत एक मई से इस युवा वर्ग के लोगों को वैक्सिन लगाने का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है लेकिन वैक्सिन की मात्रा कम आने की वजह से या अन्य कारणों से टीकाकरण केन्द्र बहुत ही कम बनाए गए हैं और जो बनाए गए हैं उन सभी में ऑनलाईन बुकिंग की सुविधा दी गई है।

उन्होंने मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित करना चाहा कि 70 प्रतिशत जनता ग्रामीण एवं आदिवासी है। इन लोगों को ऑनलाईन बुकिंग कराना नहीं आता है और न ही इन्हें इसकी सुविधा है। इसलिए ग्रामीण क्षेत्रों में असंतोष बढ़ता जा रहा है।

उदयपुर जिले के कोटड़ा, झाड़ोल, गोगुन्दा, खैरवाड़ा, लसाड़ियां यहां तक कि उदयपुर ग्रामीण तथा बांसवाड़ा, डूंगरपुर, प्रतापगढ़ जिले में जो केन्द्र बनाए गए हैं। उन पर लगने वाली वैक्सिन 90.95 प्रतिशत लोग शहरों से या अन्य स्थानों से उन केन्द्रों पर पहुंच रहे हैं।

उन्होंने बताया कि झाड़ोल, कोटड़ा की सीमा पर जो केन्द्र स्थापित किए गए हैं, उन पर गुजरात के लोग ऑनलाईन बुकिंग कराकर टीका लगवा रहे हैं। इस कारण स्थाननीय लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि जहां टीकाकरण हो रहा है वहां के लोग टीका नहीं लगवा पा रहे हैं।

कटारिया ने गहलोत से अनुरोध किया कि जिन केन्द्रों पर वेक्सिनेशन हो रहा है, उस केन्द्र के आस पास के लोगों को भी वैक्सिन लगे और इसके लिए व्यवस्था की जाए। टीकाकरण के केन्द्र बढ़ाए जाएं तथा वैक्सिन की मात्रा को भी ग्रामीण क्षेत्र में बढ़ाने पर विशेष ध्यान दिया जाए, क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड की महामारी काफी विकराल रूप ले चुकी है।

उन्होंने कहा कि इस प्रकार की व्यवस्था की जानी चाहिए कि स्थानीय और बाहर से आने वाले लोगों के बीच टीका लगाने के लिए संघर्ष नहीं हो।