नन्हीं बच्ची नंदिता पर बडी विपदा, आप और हम क्या कर सकते हैं?


सबगुरु न्यूज।
ईश्वर इस सृष्टि के सृजन, पालन और क्रवंसन करर रहा है। पलक झपकने के करोड़वें हिस्से में वह हर असंभव कार्य संपादित करने की क्षमता रखता है। अधिकतर विराट कार्यों को सहज ही कर लेता है। लेकिन कुछ कार्य मानव के लिए तय कर देता है। वह चाहता है कि उसके द्वारा निर्मित मनुष्य भी उचित मानवोचित दृष्टिकोण अपनाते हुए मानवमात्र की सेवा के कार्य करता रहे। ईश्वर आज आपसे इसी प्रकार की अपेक्षा रख रहा है।

नंदिता जिसकी उम्र महज 3 साल है। इसने अभी ढंग से बोलना भी नहीं सीखा है कि इस पर भारी विपदा आ गई। कुछ समय पूर्व तक वह सामान्य बच्चों की तरह अपनी बाल सुलभ मासूमियत से परिवार के साथ साथ परिचितों को भी आकर्षित करने की क्षमता रखती थी। अब इसकी हाथ तथा पैर की चलायमानता में कमी आ गई। इसके माता और पिता योग प्रशिक्षक है। उन्होंने अपने स्तर पर फिजियोथैरेपिस्ट से इस संबंध में चर्चा की। फिजियोथैरेपिस्ट ने नंदिता का उपचार आरंभ कर दिया। उपचार से कुछ आराम जरूर मिला लेकिन पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाई। फिजियोथैरेपिस्ट की सलाह पर नंदिता को बड़े अस्पताल में दिखाया गया।

फिजियोथैरेपिस्ट डॉक्टर स्नेहल ने नंदिता को एसआरसीसी के पेडियाट्रिक न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर अनैता हेगडे के पास रेफर कर दिया। उन्होंने नंदिता के स्पाइन की एम आर आई करवाई। इस एमआरआई के अनुसार सर्वाइकल और मेडुलरी एरिया मैं आर्टेरियो विनस मालफॉर्मेशन (एवीएम) पाई गई। डॉक्टर अनीता हेगड़े ने डिजिटल सब्सट्रैक्शन एंजियोग्राफी डी एस ए करवाई। इस टेस्ट के पश्चात न्युरोइंटरवेंशनिस्ट डॉक्टर उदय लिमये के साथ चर्चा की गई और नंदिता को नारायण हृदयालय एसआरसीसी में भर्ती करवाया गया।

चिकित्सकों ने नंदिता की कई स्थानों पर शल्य क्रिया करने की बात कही। उन्होंने इसके लिए लगभग 23 लाख रुपए का खर्चा बताया। नंदिता की पिता शैलेश सावजी इस खर्चे को उठा पाने मैं समर्थ नहीं थे। उन्होंने इस संबंध में अपने परिचितों से चर्चा की। उन्हीं में से एक आस्था अमोल घग ने इंपैक्ट गुरु फाउंडेशन के माध्यम से फंडरेज करने का प्रयास किया। इस प्रयास को संवेदनशील जनमानस ने हाथों हाथ लिया और जनसहयोग से धन राशि जुटाने का सिलसिला शुरू हुआ। वर्तमान में उपलब्ध करवाई जा रही राशि पर्याप्त नहीं है‌। इसे आगे बढ़ाने में आपके सहयोग की नंदिता अपेक्षा करती है।

सबगुरु न्यूज भी नंदिता के पूर्ण स्वस्थ होने की कामना करता है। आपसे अपेक्षा है कि नंदिता के जीवन को बचाने के लिए आवश्यक चिकित्सा खर्च को वहन करने में सहभागी बनें। आपके अकिंचन आर्थिक सहयोग से नंदिता को नया जीवन मिल सकता है।

सहयोग की राशि आप सीधे नंदिता के पिता शैलेश विठोबा सावजी के व्यक्तिगत खाते में भी भेजकर सहयोग प्रदान कर सकते हैं। उनका खाता महाराष्ट्र मुंबई के वाशी में स्थित एक्सिस बैंक में है। इसका IFSC कोड UITB0000072 खाता संख्या 911010043460010 है। आपके द्वारा दिया गया हर प्रकार का सहयोग अनमोल है। आपकी निजता एवं व्यक्तिगत जानकारियों की सुरक्षा का नंदिता के परिजनों द्वारा पूरा सम्मान किया जाएगा।