ऐतिहासिक जामिया मस्जिद अलगाववादियों की हड़ताल कारण तीन दिन बाद खोली गयी

ऐतिहासिक जामिया मस्जिद अलगाववादियों की हड़ताल कारण तीन दिन बाद खोली गयी
ऐतिहासिक जामिया मस्जिद अलगाववादियों की हड़ताल कारण तीन दिन बाद खोली गयी

श्रीनगर । जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर की जामिया मस्जिद अलगाववादियों की हड़ताल के मद्देनजर तीन दिन तक बंद रहने के बाद साेमवार को खोली गयी।

अलगाववादी संगठनों ने आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी की दूसरी बरसी पर रविवार को हड़ताल का आह्वान किया था। उन्होंने दुख्तरान-ए-मिल्लत की प्रमुख आसिया अंद्राबी और उसके दो सहयोगियों को देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा पूछताछ के लिए दिल्ली तलब किये जाने के विरोध में शनिवार को हड़ताल का आह्वान किया था।

हड़ताल के कारण अलगाववादी संगठन हुर्रियत कांफ्रेंस के उदारवादी धड़े के अध्यक्ष मीरवाइज मौलवी उमर फारूक के गढ़ में स्थिति तनावपूर्ण होने की आशंका के मद्देनजर मस्जिद में जुमे की नमाज भी अदा नहीं की गयी। फारूक को शुक्रवार सुबह से ही नजरबंद रखा गया है।

मस्जिद के सभी दरवाजे खोल दिये गये हैं और इलाके में तैनात सुरक्षा कर्मी एवं राज्य पुलिस के जवानों काे वापस बुला लिया गया है। जामिया बाजार में भी स्थिति सामान्य हो गयी है। राजौरी कदल, रांगर स्टॉप और गोजवाड़ा समेत जामिया मस्जिद की ओर जाने वाली सभी सड़कों को खोल दिया गया है।