सविता, मनप्रीत अर्जुन अवार्ड, भरत लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए नामित

Hockey India recommends Manpreet Singh, Dharamvir Singh, Savita punia for arjuna award

नई दिल्ली। हॉकी इंडिया ने पुरूष खिलाड़ी मनप्रीत सिंंह, महिला टीम की गोलकीपर सविता को वर्ष 2018 के अर्जुन अवार्ड, पूर्व कप्तान भरत छेत्री को मेजर ध्यानचंद लाइफटाइम अचीवमेंट अौर कोच बीएस चौहान को द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिये नामित किया है।

एचआई ने गुरूवार को जारी बयान में इसकी घोषणा की। अर्जुन अवार्ड के लिए अनुभवी मिडफील्डर धर्मवीर सिंह, मनप्रीत सिंह अौर महिला हॉकी टीम की अनुभवी गोलकीपर सविता को नामित किया गया है।

ध्यानचंद लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार के लिये संगगाई इबेमहाल चानू और पुरूष टीम के पूर्व कप्तान भरत छेत्री को नामित किया गया है। हॉकी इंडिया ने कोच बी एस चौहान को गुरूओं को दिये जाने वाले द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए नामित किया है।

नामित सदस्यों के लिए हॉकी इंडिया के महासचिव मोहम्मद मुश्ताक अहमद ने कहा कि हम भारतीय हॉकी के लिए बड़ा योगदान देने वाले इन खिलाड़ियों के नामों की राष्ट्रीय पुरस्कारों के लिये सिफारिश करके बहुत खुश हैं। इन सभी ने अपने प्रदर्शन से देश के लिए अपनी अहमियत साबित की है। ये अपने खेल से भारतीय टीम को नई ऊंचाइयों पर लेकर गए हैं। हम इनकी उपलब्धियों के लिए गौरवान्वित है।

अर्जुन पुरस्कार के लिए नामित वर्ष 2014 इंचियोन एशियन गेम्स की स्वर्ण पदक विजेता टीम के खिलाड़ी पंजाब से अनुभवी मिडफील्डर धर्मवीर के नाम भी काफी उपलब्धि रही है। वह 2012 लंदन ओलंपिक टीम के भी सदस्य रहे और हेग में 2014 पुरूष हॉकी विश्वकप में भी टीम का प्रतिनिधित्व किया।

वहीं गोलकीपर पीआर श्रीजेश की अनुपस्थिति में टीम की कप्तानी करने वाले मनप्रीत की भी काफी उपलब्धियां हैं। मनप्रीत एशिया कप में भारतीय टीम का हिस्सा रहे जहां भारत ने मलेशिया को हराकर खिताब जीता था। उनकी कप्तानी में भारतीय पुरूष टीम ने ओडिशा में हुए हॉकी वर्ल्ड लीग फाइनल 2017 में कांस्य पदक जीता। मनप्रीत भारतीय टीम के लिए 200 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं और 2012 तथा 2016 ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेने वाली टीम का भी हिस्सा रहे थे।

गत वर्ष लंदन में हुई एफआईएच चैंपियंस ट्रॉफी में रजत पदक जीतने वाली टीम का भी मनप्रीत हिस्सा रहे। इसके अलावा 2014 ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों की रजत विजेता टीम का भी वह हिस्सा रहे। उनके नाम एशियन गेम्स की स्वर्ण पदक विजेता टीम का हिस्सा होने का गौरव भी है।

भारतीय महिला हॉकी टीम की गोलकीपर हरियाणा की 27 वर्षीय सविता ने गत वर्ष एशिया कप की खिताबी जीत में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने 13 वर्ष बाद विश्वकप में कांटिनेंटल चैंपियन के तौर पर भारत को क्वालीफाई कराने में भी अहम भूमिका निभाई जबकि भारत ने 36 वर्षाें बाद ओलंपिक में भी क्वालीफाई किया। एशियन चैंपियंस ट्रॉफी 2016 की जीत के अलावा गत माह समाप्त हुये 21वें गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में भी सविता ने प्रभावशाली प्रदर्शन किया था।

पूर्व भारतीय खिलाड़ी संगाई को इस वर्ष के लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार के लिये नामित किया गया है। संगाई वर्ष 2002 राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा रही थी जिसने मैनचेस्टर में स्वर्ण पदक जीता था जबकि वर्ष 2006 मेलबोर्न खेलों में टीम ने रजत पदक जीता था।

संगाई ने 2014 नई दिल्ली खेलों में भी भारतीय टीम की स्वर्णिम कामयाबी में भूमिका निभाई थी। इसके अलावा वह वर्ष 2002 चैंपियंस चैलेंज में कांस्य पदक विजेता टीम का भी हिस्सा रहीं। अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में संगाई ने 1998 और 2006 विश्वकप में भारत का प्रतिनिधित्व किया।

वहीं पूर्व भारतीय गोलकीपर और कप्तान भरत छेत्री 2012 लंदन ओलंपिक खेलों में राष्ट्रीय टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। वह 2010 राष्ट्रमंडल खेलों की रजत विजेता, 2010 एशियन गेम्स की कांस्य विजेता टीम का हिस्सा रहे हैं। वह साथ ही पुरूष और महिला दोनों टीमों के गोलकीपरों के मेंटर की भूमिका भी निभा रहे हैं।

रिटायर्ड सीनियर हॉकी कोच बीएस चौहान के नाम की सिफारिश इस वर्ष के द्रोणाचार्य अवार्ड के लिये की गई है जो बेंगलुरू स्थित भारतीय खेल प्राधिकरण(साई) के सबसे लंबी अवधि तक कोच की भूमिका निभा चुके हैं।