सुशील कुमार और बजरंग पूनिया से स्वर्ण पदक की उम्मीद

Hopes of gold medal from Sushil Kumar and Bajrang Poonia
Hopes of gold medal from Sushil Kumar and Bajrang Poonia

जकार्ता । भारत को 18वें एशियाई खेलों में सुनहरी शुरूआत दिलाने का दारोमदार दो बार के ओलम्पिक पदक विजेता सुशील कुमार अौर राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण विजेता बजरंग पूनिया पर रहेगा।

एशियाई खेलों में रविवार से प्रतियोगी मुकाबलों की शुरूआत होने जा रही है और पहले ही दिन कुश्ती में फ्री स्टाइल के पांच वजन वर्गाें 57, 65, 74, 86 और 97 किग्रा का फैसला होगा। इन पांच वर्गाें में भारत की सबसे बड़ी उम्मीद राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण विजेता सुशील और बजरंग हैं। दोनों ही पहलवान शानदार फार्म में हैं और भारत की स्वर्णिम उम्मीदों को पहले ही दिन परवान चढ़ा सकते हैं।

74 किग्रा वर्ग के पहलवान सुशील ने मुकाबले की पूर्व संध्या पर खुद को पूरी तरह फिट और तैयार बताया। उन्होंने कहा,“ मैं इस समय अपनी पूरी फार्म में हूं। मेरा हमेशा से मानना है कि सामने वाला प्रतिद्वंद्वी छोटा या बड़ा, जूनियर या सीनियर नहीं होता है बल्कि आपको हर विपक्षी को पूरी गंभीरता के साथ लेकर लड़ना होता है।”

सुशील ने इस साल गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्णिम हैट्रिक पूरी की थी। सुशील विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक, एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण और लगातार दो ओलम्पिक में कांस्य तथा रजत पदक जीत चुके हैं लेकिन उनके पास एशियाई खेलों का स्वर्ण पदक नहीं है।

सुशील ने एशियाई खेलों के लिए दो बार जार्जिया जाकर अपनी तैयारियों को मजबूत किया है। उन्होंने हाल में जार्जिया में थे जहां उन्होंने रूसी पहलवानों के साथ अभ्यास किया था।