मैंने सपा नहीं छोड़ी, मुझे पार्टी से धकेला गया : शिवपाल यादव

झांसी। समाजवादी सेक्यूलर मोर्चे के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने बुधवार को अपनों से मिली तकलीफ को बयां करते हुए कहा कि मैंने समाजवादी पार्टी नहीं छोड़ी बल्कि मुझे पार्टी से धकेल दिया गया।

यहां सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में शिवपाल पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ संबंधों में आई तल्खी को छिपा नहीं पाए और कहा कि मेरी वजह से ही सपा हर बार सत्ता में आई, इतना ही नहीं अखिलेश भी मेरी ही वजह से मुख्यमंत्री बने। इतना सब करने के बाद भी मेरा जगह जगह अपमान किया गया।

मैंने काफी इंतजार किया कि शायद कभी ऐसा करने वालों को अपनी गलती का एहसास हो लेकिन जब काफी समय तक ऐसा नहीं हुआ तो नेताजी से इजाजत लेकर मैंने पार्टी बनाई है। मैने पार्टी छोड़ी नहीं मुझे धकेला गया।

मीडिया के तीखे सवालों का सहजता पूर्वक जबाब देते हुए पूर्व कैबिनेट मंत्री ने कहा कि जिन्होंने नेताजी का अपमान किया, मेरा अपमान किया वह समाजवादी पार्टी के बड़े नेता हैं उन्होंने सभी दलों के समर्थन देने के बाद भी सपा संस्थापक को प्रधानमंत्री की कुर्सी तक नहीं पहुंचने दिया। अपने परिवार के बारे में पूछे गए सवालों पर शिवपाल कई बार असहज होते दिखाई दिए।

भारतीय जनता पार्टी के तिलिस्म को समाजवादी मोर्चा कैसे तोड़ पाएगा के सवाल पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी और समाजवादी सेक्यूलर मोर्चे के अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा का तिलिस्म तोड़ने के लिए किसी और को कुछ करने की जरूरत नहीं है यह काम जनता स्वयं कर देगी।

भाजपा को उन्होंने लाभ पहुंचाया जिन्होंने पार्टी को तोड़ा। उनके द्वारा समाजवादी पार्टी को हानि और अप्रत्यक्ष रुप से भाजपा को लाभ पहुंचाए जाने के सवाल पर उन्होंने अपने जबाब में फिर पूर्व मुख्यमंत्री को ही दोषी करार दे दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा को लाभ वह लोग पहुंचा रहे हैं जिन्होंने समाजवादी पार्टी को तोड़ा है।

उन्होंने कहा कि वह अपनी विचारधारा के सभी 40 दलों के लोगों को 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए मैदान में उतारेंगे। इनमें से एकमात्र मैनपुरी की सीट उन्होंने नेताजी यानि मुलायम सिंह को लड़ने के लिए सुरक्षित रख छोड़ी है। यदि नेताजी उस सीट पर उनकी पार्टी से लड़ना पसन्द नहीं करेंगे तो वह जिस पार्टी से लड़ेगे वह उन्हें पूरे दिल से सहयोग करेंगे।

भ्रष्टाचार के सवाल पर उन्होंने भाजपा को भ्रष्टाचारी सरकार बताते हुए कहा कि भाजपा के शासन में पहले से 10 गुना ज्यादा भ्रष्टाचार बढ़ गया है। सरकार की गलत नीतियों की वजह से प्रदेश व देश की जनता दुखी होकर सड़कों पर उतर आई है। किसान परेशान हैं। बिजली चोरी नहीं हो रही फिर भी जबरन वसूली कर रहे हैं। यदि सौदा पट जाता है तो ठीक नही तो मुकद्मा या फिर जुर्माना भरना पड़ता है। उन्होंने यह सब अपनी आंखों से देखने का दावा किया।

मीडिया द्वारा जब पूछा गया कि क्या आप जरुरत पड़ी तो अखिलेश को भी समर्थन दे दोगे? इस पर शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि क्षेत्र में कोई भी पार्टी हमारे समर्थन के बगैर सरकार नहीं बना पाएगी। यह तो समय बताएगा कि आखिर कौन किसको देगा और कौन लेगा? इस दौरान उनके साथ पार्टी की संस्थापक सदस्य नेत्री दीपमाला कुशवाहा, जिलाध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह यादव, दीपेन्द्र यादव आदि उपस्थित रहे।