राष्ट्र निर्माण में राजपूत सभा का बड़ा योगदान है : अनुराग ठाकुर

Verified Apps to watch T20 World Cup 2022 Live Stream

जयपुर। केंद्रीय मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर बुधवार को कहा कि राजपूत सभा ने अपने समाज नहीं बल्कि अन्य समाज के बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य क्षेत्र में काम कर राष्ट्र निर्माण में बड़ा योगदान दिया है।

ठाकुर ने आज यहां जारी वक्तव्य में कहा कि बड़ी बात यह है कि अलग अलग समाज के लोग अपनी संस्थाओं के माध्यम से शिक्षा, स्वास्थय और बाकी क्षेत्रों में काम करते हैं। मुझे प्रशन्नता इस बात की है की राजपूत सभा ने केवल अपने समाज नहीं बल्कि अन्य समाज के बच्चों का भी सहयोग किया है।

उन्होंने कहा कि इसके लिए मैं आप सभी को साधुवाद देता हूं। उन्होंने कहा कि 10 हजार से भी ज्यादा युवाओं ने राजपूत सभा के माध्यम से शिक्षा प्राप्त की है, छात्रावास में रहे हैं और आज सरकारी नौकरियों में भी अपना योगदान दे रहे हैं। ये अपने आप में बड़ी बात है। उन्होंने कहा कि मुझे पूर्ण विश्वास है की राष्ट्र निर्माण में राजपूत सभा का बड़ा योगदान है।

उन्होंने कहा कि मुझे इस बात की बेहद ख़ुशी है की यहां सिर्फ मेरे भाई नहीं बल्कि मातृ शक्ति भी अपना आशीर्वाद देने आई है। ये धरती महाराणा प्रताप, पृथ्वीराज चौहान की धरती है जिन्हें सैकड़ों वर्षों बाद भी पूरा देश गर्व व स्वाभिमान से याद करता है। उनके जीवन से हमे प्रेरणा मिलती है। उन्होंने कहा कि हमे गर्व होना चाहिए की हम ऐसे समाज से आते हैं।

उन्होंने कहा कि आज जब हम आजादी का 75 वां वर्ष मना रहे हैं तो हमे प्रण लेना है की हमारा भारत जिसके लिए हमारे पूर्वजों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी। उन्होंने कहा कि हमें भी राष्ट्र निर्माण में अपनी भूमिका सुनिश्चित करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि हिमाचल से जब मैं राजस्थान आता हूं तो लगता है की अपने घर ही आया हूं। यहां की कला संस्कृति हो या लोग हो सभी बेहद समावेशी हैं। पर्यटन के हिसाब से भी देखा जाए तो लोग राजस्थान और हिमाचल आते हैं। अतिथि देवो भवः की परंपरा राजस्थान में रची बसी है। लोग यहां सेफ मह्सूस करते हैं।

उन्होंने कहा कि पिछले कई वर्षों से मैं देख रहा हूं की राजस्थान की छवि में गिरावट आई है। महिलाओं, दलितों के नाम पर होने वाले अपराध, बलात्कार को धर्म से जोड़े की घटनाएं बढ़ी हैं। इन सब पर राजनीति होती है। देश भर में सबसे ज्यादा अपराध राजस्थान में दर्ज होना दुखद है। ये क्यों हो रहा है इसके पीछे की वजह ढूंढ़नी होगी।