ज़िम्बाब्वे को हराकर सेमीफाइनल में पहुंचा भारत, इंग्लैंड से होगा सामना

मेलबर्न। सूर्यकुमार यादव (61 नाबाद) के विस्फोटक अर्द्धशतक के बाद रविचंद्रन अश्विन (22/3) की अगुवाई में गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने रविवार को टी20 विश्व कप 2022 के सुपर-12 मुकाबले में ज़िम्बाब्वे को 71 रन से रौंदकर सेमीफाइनल में जगह बनाई।

भारत ने ग्रुप-2 के आखिरी मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए ज़िम्बाब्वे को 187 रन का लक्ष्य दिया, जिसके जवाब में जि़म्बाब्वे 115 रन पर ऑलआउट हो गई।

सूर्यकुमार ने एक बार फिर अपनी 360 डिग्री बल्लेबाजी से विपक्षी टीम को पस्त किया। उन्होंने अपनी अर्द्धशतकीय पारी में 25 गेंदों पर छह चौकों और चार छक्कों की बदौलत 61 रन बनाए और भारत को मजबूत स्कोर तक पहुंचाया।

ज़िम्बाब्वे ने लक्ष्य का पीछा करते हुए 36 रन पर ही अपनी आधी टीम गंवा दी। रायन बर्ल (35) और सिकंदर रज़ा (34) ने ज़िम्बाब्वे के लिए संघर्ष किया लेकिन इससे हार का अंतर ही कम हुआ।

भारत ने सुपर-12 के पांच मैचों में आठ पॉइंट हासिल करके अपने ग्रुप में पहला स्थान हासिल किया। सेमीफाइनल में रोहित शर्मा की टीम का सामना इंग्लैंड से होगा। ग्रुप-2 से सेमीफाइनल में पहुंचने वाली दूसरी टीम पाकिस्तान को न्यूजीलैंड से मुकाबला करना है।

भारत ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनी और कप्तान रोहित शर्मा (15) का विकेट जल्दी गंवाने के बावजूद पावरप्ले में 46 रन जोड़ लिए। राहुल और विराट कोहली ने दूसरे विकेट के लिए 60 रन की साझेदारी की। कोहली 25 गेंदों पर 26 रन ही बना सके, लेकिन राहुल ने टूर्नामेंट का अपना दूसरा अर्द्धशतक जड़ते हुए 35 गेंदों पर तीन चौकों और तीन छक्कों की बदौलत 51 रन की पारी खेली। टी20 विश्व कप 2022 में अपना पहला मैच खेल रहे ऋषभ पंत तीन रन बनाकर रायन बर्ल के दर्शनीय कैच की भेंट चढ़ गए।

ज़िम्बाब्वे ने मध्य ओवरों में कोहली, राहुल और पंत का विकेट लेकर मैच में वापसी करनी चाही लेकिन सूर्यकुमार ने एक बार फिर अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी से विपक्षी टीम को असहाय कर दिया। सूर्यकुमार ने एक और तेज अर्द्धशतक जमाते हुए 25 गेंदों पर छह चौकों और चार छक्कों की बदौलत नाबाद 61 रन बनाए। वह पाकिस्तान के मोहम्मद रिज़वान (2021) के बाद एक साल में 1000 से ज्यादा टी20 अंतरराष्ट्रीय रन बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज भी बन गए।

सूर्यकुमार की बदौलत भारत ने आखिरी पांच ओवरों में 79 रन जोड़े और 20 ओवरों में 186/5 का स्कोर खड़ा किया। लक्ष्य का पीछा करने उतरी ज़िम्बाब्वे की आधी टीम 36 रन पर ही पवेलियन लौट गयी। भुवनेश्वर कुमार ने पहला ओवर मेडेन फेंकते हुए वेस्ले माधेवेरे को आउट किया जबकि अर्शदीप सिंह ने रेजिस चकाब्वा को शून्य रन पर बोल्ड किया। हार्दिक पांड्या ने अपनी ही गेंद पर क्रेग इर्विन (13) का कैच पकड़ा जबकि मोहम्मद शमी ने शॉन विलियम्स और टेनी मुन्योंगा को आउट किया।

रज़ा और बर्ल ने हालांकि शेवरन्स के लिए संघर्ष किया और छठे विकेट के लिए 60 रन जोड़े। बर्ल ने 22 गेंदों पर पांच चौके और एक छक्का लगाकर 35 रन बनाए जबकि रज़ा ने 24 गेंदों पर तीन चौकों के साथ 34 रन की पारी खेली।

दोनों बल्लेबाजों ने ज़िम्बाब्वे की पारी को संभाल लिया था लेकिन बड़े लक्ष्य का दबाव बहुत ज्यादा था। अश्विन ने पारी के 14वें ओवर में बर्ल को आउट करने के बाद वेलिंगटन मसाकादज़ा और रिचर्ड नगारवा को पवेलियन भेज दिया। विशाल लक्ष्य के दबाव में रज़ा भी हार्दिक पांड्या की गेंद पर छक्का लगाने के प्रयास में आउट हो गए। पारी के 18वें ओवर में टेंडाई चटारा का विकेट गिरने के साथ ज़िम्बाब्वे की पारी समाप्त हुई और भारत ने यह मैच 71 रन से जीत लिया।

इस जीत के साथ भारत ग्रुप-2 की अंक तालिका में शीर्ष पर रहा, जबकि दूसरे स्थान पर रहकर पाकिस्तान ने भी सेमीफाइनल के लिये क्वालीफाई किया।