आईजीजेए ने रत्नाभूषणों के निर्यात को बढ़ावा देने हेतु इंडस्ट्री लीडर्स को सम्मानित किया

IGJA honors industry leaders for boosting export of jewelery jewelery
IGJA honors industry leaders for boosting export of jewelery jewelery

मुंबई । जेम ऐंड ज्वेलरी एक्सपोर्ट प्रोमोशन काउंसिल (जीजेईपीसी), इंडस्ट्री की शीर्ष निकाय ने मुंबई में 44वें इंडिया जेम ऐंड ज्वेलरी अवार्ड्स का आयोजन किया। इस अवसर पर सभी श्रेणियों में जेम व ज्वेलरी इंडस्ट्री के विजेताओं के नामों की घोषणा की गयी। माननीय केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग तथा नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु और संसद सदस्य, पूनम महाजन की मौजूदगी में इस शानदार समारोह का आयोजन किया गया और इन्होंने विजेताओं को सम्मानित किया।

उद्योग के खिलाड़ियों को वर्ष 2016-17 के दौरान अन्य विशेषताओं के बीच विकास, निर्यात उत्कृष्टता, विपणन पहलों, नवाचार, मूल्यवर्धन और अनुसंधान एवं विकास में निवेश जैसे प्रमुख मानकों पर प्रतिष्ठित जूरी द्वारा उनके अनुकरणीय प्रदर्शन के लिए चुना गया था। जीजेईपीसी को 129 नामांकन प्राप्त हुए, जिनमें से कुल 44 विजेताओं का चयन किया गया।

वाणिज्य और उद्योग और नागरिक उड्डयन मंत्री माननीय केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु ने सभी विजेताओं को बधाई दी और कहा कि “वित्त वर्ष 17-18 में, हमने पिछले 6 वर्षों में 20ः पर निर्यात वृद्धि की उच्च दर दर्ज की है और उम्मीद है कि 18-19। दुनिया कई चुनौतियों का सामना कर रही है और वैश्विक वातावरण जो हम संचालित करते हैं, वह तेजी से कठिन हो रहा है और नतीजतन वैश्विक व्यापार मुठभेड़ संकटग्रस्त हो रही है। डब्ल्यूटीओ द्वारा सामना की जाने वाली समस्याओं के मुकाबले हमें एक रास्ता निकालना होगा और पिछले साल के 7.6ः के मुकाबले 8-9ः पर तेजी से बढ़ना होगा और हमें उम्मीद है कि हम भविष्य में गति को बनाए रखने में सक्षम होंगे। मुझे इस उद्योग से जुड़े होने पर गर्व है जिसमें एक बड़ी क्षमता है।“

माननीय मंत्री जी ने आगे कहा, ‘‘बैंकिंग एक महत्वपूर्ण विषय है और हमें इसका अवश्य समाधान निकालना होगा और हम इस पर कार्य करते रहेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि इस क्षेत्र की वास्तविक ऋण आवश्यकता पूरी हो।’’ “प्रत्येक गांव में एक जौहरी है जो हस्तनिर्मित और कस्टम आभूषण बनाती है, इन कारीगरों को आभूषण डिजाइनरों द्वारा बेहतर मूल्य वाले उत्पादों के साथ आने में मदद मिलेगी जिन्हें निर्यात किया जाएगा। हम ऐसे मॉडल को विकसित करना चाहते हैं। मंत्री ने कहा कि जीजेईपीसी और केंद्र वांछित उद्देश्य प्राप्त करने के लिए रणनीति तैयार करने की दिशा में काम कर रहे हैं।

मंत्री ने जीजेईपीसी द्वारा निर्यात मोर्चे पर आगे बढ़ने और प्रचार के लिए अधिक सेक्टर और उद्योग-स्तरीय तालमेल और एकजुटता पर भी जोर दिया। एक नई घरेलू परिषद का जिक्र करते हुए जिसे जल्द ही प्रभु का गठन किया जा रहा है, “जीजेईपीसी जारी रखने के लिए जारी है, जबकि निर्यात पदोन्नति पहलों और उपायों का नेतृत्व और क्रैडल, घरेलू समर्थन उभरने और इन-द-पाइपलाइन से निकलने के लिए तैयार है नई परिषद। “

जेम ऐंड ज्वेलरी एक्सपोर्ट प्रोमोशन काउंसिल के चेयरमैन, प्रमोद अग्रवाल ने कहा, “जीजेईपीसी, मणि और आभूषण उद्योग के शीर्ष निकाय के रूप में उद्योग के सभी पहलुओं को विकसित कर रहा है ताकि रोजगार और निर्यात को सर्वोत्तम तरीके से विकसित किया जा सके। हम दुनिया में नेतृत्व की स्थिति प्राप्त करने में उनके व्यापक समर्थन के लिए सभी उद्योग के लोगों, विजेताओं और जूरी के सदस्यों को बधाई देना चाहते हैं। यह जोड़कर खुशी हुई कि जीजेईपीसी ने महाराष्ट्र सरकार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। मुंबई में भारत के सबसे बड़े आभूषण पार्क की स्थापना के लिए 13800 करोड़ रुपये के निवेश के साथ अतिरिक्त 1 लाख नौकरियां पैदा होंगी।“

लोकसभा सांसद, पूनम महाजन ने अपने मुख्य भाषण में देश की अर्थव्यवस्था में रत्नाभूषण उद्योग की भूमिका के बारे में बताया। उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय मणि और आभूषण क्षेत्र हमारी अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और देश में लाखों लोगों को रोजगार भी प्रदान करता है। यह पुरस्कार समारोह उद्योग के सभी वर्टिकल को उनके निर्यात उत्कृष्टता के लिए मान्यता देने वाला एक आदर्श मंच रहा है। इस मंच ने महिला उद्यमियों और एमएसएमई निर्यातकों को अगले स्तर पर जाने के लिए प्रोत्साहित किया है। मैं प्रत्येक पुरस्कार विजेता को बधाई देता हूं और आगामी वर्षों में उन्हें और अधिक सफलता की कामना करता हूं।“

कीमती धातु, आभूषण – सादा और स्टड, चांदी के आभूषण, कट और पॉलिश हीरे, पोशाक / फैशन आभूषण, रंगीन रत्न, विदेशी पर्यटकों और सिंथेटिक पत्थर की बिक्री जैसे श्रेणियों में कुल 44 पुरस्कार दिए गए थे। विशेष वर्गीकरण जैसे सबसे नवीन कंपनी के आधार पर 7 विशेष पुरस्कार दिए गए हैं; सबसे सामाजिक रूप से जिम्मेदार कंपनी, महिला उद्यमी, सर्वश्रेष्ठ डिजिटल पहल, आजीवन उपलब्धि इत्यादि। वित्त और समर्थन के मामले में उद्योग विकास में योगदान देने वाले बैंकों और एजेंसियों को 7 नए पुरस्कार दिए गए।

विजेताओं का चयन करने वाले जुरी सदस्यों में सुश्री निरूपा भट्ट, एमडी-जीआईए, भारत; आरवमुडन कृष्ण कुमार, पूर्व प्रबंध निदेशक-भारतीय स्टेट बैंक और सुश्री जयश्री रमास्वामी, मुख्य वित्तीय अधिकारी एवं कंपनी सचिव, डुन ऐंड ब्रैडस्ट्रीट इंडिया शामिल रहे। आईजीजेए 2017, जीआईए द्वारा प्रवर्तित रहा, इमरैल्ड इसके सहयोगी रहे और आरएमसी जेम्स इसके समर्थक थे।