फिल्म गुलाबो सिताबो में प्रोस्थेटिक को लेकर परेशान हैं अमिताभ बच्चन

in film Gulbo sitaba amitabh bachchan is worried about prostatic
in film Gulbo sitaba amitabh bachchan is worried about prostatic

मुंबई | बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन आने वाली फिल्म गुलाबो सिताबो में प्रोस्थेटिक को लेकर परेशान हैं।
अमिताभ बच्चन हमेशा अपने किरदार के अनुसार ढलने को तैयार रहते हैं ,लेकिन इन किरदारों के साथ न्याय करने के लिए उन्हें केवल अपने अभिनय ही नहीं बल्क‍ि अपने लुक्स पर भी काफी काम करना पड़ता हैं। पिछले दिनों लखनऊ में गुलाबो सिताबो की शूटिंग के दौरान अमिताभ का पहला लुक सामने आया था। इसमें अमिताभ एक बहुत बूढ़े व्यक्त‍ि का किरदार निभा रहे हैं।अमिताभ के किरदार को दिखाने के लिए प्रोस्थेटिक तकनीकी का सहारा लिया गया है।

अमिताभ ने इन किरदारों के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले ‘प्रोस्थेटिक’ से जुड़ी अपनी तकलीफ ब्लॉग में साझा की है। अमिताभ ने बताया कि उन्हें प्रोस्थेटिक के इस्तेमाल से ऐतराज नहीं है, लेकिन लंबे समय तक इसका इस्तेमाल थका देने वाला होता है।जैसे जैसे किरदार के पोर्टरेयल के दिन आराम से गुजरते हैं, वैसे -वैसे सहजता होने लगती है… लेकिन हां… प्रोस्थेटिक, पाउंड भर मांस ले जाता है और इसके प्रभाव को कम करने के लिए एक गिरावट होगी।

अमिताभ ने लिखा, पश्च‍िम के फिल्म मेकिंग इंडस्ट्री में कुछ नियम हैं जहां कानून के मुताबिक प्रोस्थेटिक का इस्तेमाल तीन दिन से ज्यादा नहीं किया जा सकता है. इसे दोबारा करने से पहले चेहरे के लिए एक या दो दिन का ब्रेक… लेकिन यहां, यह एक महीने तक नॉन-स्टॉप है….पा में भी ऐसा ही हुआ था. कोई शिकायत नहीं…बस ये कहता हूं कि दिन गुजरने के साथ-साथ इसे संभाल पाना मुश्क‍िल हो जाता है। पिछले दिनों अमिताभ ने अपने मेकअप के लिए लगने वाले समय का भी जिक्र किया था। उन्होंने कहा था कि गुलाबो सिताबो में उनके मेकअप के लिए काफी लंबा वक्त लगता है।

उनके मेकअप में लगभग तीन घंटे का समय लगता है ताकि अपने किरदार के जैसा नजर आ सके। गौरतलब है फिल्म गुलाबो सिताबो में अमिताभ के साथ आयुष्मान खुराना भी नजर आएंगे। यह फिल्म 24 अप्रैल 2020 को रिलीज होगी। फिल्म गुलाबो सिताबो का निर्देशन शूजित सरकार कर रहे हैं।