कर्नाटक में कांग्रेस नेताओं के शैक्षणिक संस्थानों पर आयकर छापे

बेंगलूरु। कर्नाटक के पूर्व उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर और कांग्रेस के पूर्व सांसद आर. एल. जलप्पा के पुत्र जे राजेद्र के दो शैक्षणिक ठिकानों पर आयकर विभाग ने गुरुवार को छापे मारे।

आयकर विभाग ने कर्नाटक के तुमारकुरु तथा डोड्डाबल्लपुर में यह कार्रवाई राष्ट्रीय पात्रता प्रवेश परीक्षा (नीट) से संबंधित मेडिकल कोर्सेज में दाखिले के दौरान कथित तौर पर करोड़ों रुपये की कर चोरी को लेकर की है।

परमेश्वर के पिता एचएम गंगाधरैया ने 58 वर्ष पूर्व सिद्धार्थ ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स की स्थापना की थी। आयकर विभाग के 250 से अधिक अधिकारियों ने डोड्डाबल्लापुर तथा कोलार में परमेश्वर के भाग जी शिवप्रस्दा तथा उनके सहायक एवं आरएल जलप्पा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के संचालक रमेश के ठिकानों पर भी छापे मारे।

आयकर विभाग ने 30 ठिकानों पर छापे मारे हैं और कर्नाटक तथा राजस्थान के कुछ ठिकानों पर छापे की कार्रवाई जारी है। परमेश्वर सिद्धार्थ शैक्षणिक ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं।

नीट की परीक्षा में कथित तौर पर दूसरे छात्र के स्थान पर परीक्षा देने को लेकर मामला दर्ज किया गया है। उनके विरुद्ध आरोप है कि छात्रों ने इसके लिए कथित तौर पर गैर कानूनी तरीके से राशि का भुगतान किया था।

आयकर अधिकारी राजस्थान में उन छात्रों का पता लगाने के लिए की कोशिश कर रहे हैं, जिन्होंने असली छात्र की जगह परीक्षा दी थी।

उधर, परमेश्वर ने संवाददाताओं से कहा कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि छापे की कार्रवाई क्यों की गयी है? उन्होंने कहा कि मुझे नहीं मालूम कि छापे की कार्रवाई क्यों की गई है? आयकर अधिकारियों ने मुझे फोन कर मिलने के लिए बुलाया।

उन्होंने कहा कि उनका परिवार शैक्षणिक संस्थानों को संचालित करने के अलावा अन्य कोई कारोबार नहीं करता है और वह समय पर आयकर विवरणी भरते हैं।

परमेश्वर ने आयकर छापे को राजनीति से प्रेरित होने को लेकर पूछे गए सवाल पर टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया। उधर, विधानसभा में विपक्ष के नेता एवं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दारामैया, जनता दल (सेक्युलर) के अध्यक्ष एवं पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा ने आयकर विभाग की कार्रवाई की निंदा की है।

सिद्दारामैया ने ट्वीट कर कहा कि डॉ. परमेश्वर, आरएल जलप्पा तथा अन्य लोगों के ठिकानों पर आयकर छापे बदनीयती और राजनीति से प्रेरित हैं। वे लोग सिर्फ प्रदेश के कांग्रेस नेताओं को निशाना बना रहे हैं क्योंकि वे नीति और भ्रष्टाचार के मुद्दे हमारा सामना कर पाने में विफल हैं। हम इस तरह की कार्रवाई विचलित नहीं होंगे। देवेगौड़ा ने कहा कि यह बहुत ही निंदनीय है।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता एम. मल्लिकार्जुन खड़गे ने कलाबुर्गी में संवाददाताओं से कहा कि छापे की कार्रवाई बदले की राजनीति की वजह से की जा रही है। उन्होंने कहा कि वे लोग कांग्रेस नेताओं को डराना चाहते हैं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को बताना चाहता हूं कि जो कांग्रेस पार्टी में शामिल होना चाहते हैं, उन्हें इसके लिए तैयार रहना चाहिए।