जनसंपर्क को अकेले ही निकल पडते हैं निर्दलीय प्रत्याशी संदीप तंवर

अजमेर। विधानसभा चुनाव में राजनीतिक प्रत्याशियों में प्रचार की जंग परवान पर है। उम्मीदवार अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं की फौज और पूरे लवाजमे के साथ शहर के हर वार्ड और घर घर पहुंचने की जद्दोजहद में जुटे हैं। उधर, अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय युवा प्रत्याशी ​संदीप तंवर टू व्हीलर पर सवार होकर बिना किसी तामझाम के कभी अकेले तो कभी एक दो समर्थकों संग निकल पडते हैं। दूसरी पार्टियों के हाईटेक प्रचार के बीच निर्दलीय के रूप में चुनाव लड रहे तंवर की यह सादगी खासी चर्चा का विषय बनी हुई है।

शनिवार को जनसंपर्क के दौरान एक जगह वे कुछ देर के लिए रुके तो हमारे संवाददाता ने उनसे कुछ सवाल किए।  सहजता के साथ उन्होंने कहा कि चुनावी रण में अधिकधिक जनसंपर्क ही सबसे कारगर हथियार है। मेरे पास न तो बडी राजनीतिक पार्टियों की तरह संसाधन हैं न कार्यकर्ताओं की फौज। बस ज्यों ज्यों जनसंपर्क करता जा रहा हूं त्यों त्यों लोग खुद ही मेरे कारवां में जुडते जा रहे हैं। मुझे युवाओं से बहुत अपेक्षाएं हैं, युवा ही अजमेर, प्रदेश और देश का भविष्य हैं। इस चुनाव में मैं युवाओं की आवाज बनकर खडा हुआ हूं।

उन्होंने कहा कि वादों की राजनीति से सबसे बडा नुकसान युवा वर्ग का हो रहा है। युवा वर्ग झूठे वादों से उकता चुका है। पढने लिखने के बाद न नौकरी मिलती है न कोई काम। ऐसे में बेरोजगारी का लेबल उन्हें अवसाद की ओर ले जाता है। हाल ही में अलवर में तीन दोस्तों ने बेरोजगारी से तंग आकर आत्महत्या जैसा विभत्स कदम उठा लिया। शासन और प्रशासन का निर्देशन करने वाले जनप्रतिनिधि अपनी गलतियों पर्दा डालने के लिए सीमाएं लांघते जा रहे हैं। सब कुछ उतना ठीक नहीं है जैसा हमें दिखाई पड रहा है।

उन्होंने कहा कि कुछ लोगों के लिए राजनीति व्यवसाय हो गया है, हर बार चुनाव लडते हैं। ​जीत के लिए ऐसे बैचेन हो जाते हैं जैसे हार जाने से उनका अस्तित्व ही खत्म हो जाएगा। मेरे साथ ऐसा नहीं हैं, राजनीति मेरे लिए कोई व्यवसाय नहीं है। मैं किसी दूसरे के वोट काटने नहीं बल्कि अपने लिए वोट मांगने के लिए खडा हुआ हूं। एक बडे बदलाव का जो सपना मैने देखा है उसे सच करने की एक गली चुनाव रूपी रणक्षेत्र से होकर गुजरती है। जिस तरह से जनसमर्थन मिल रहा उससे साफ है कि आम मतदाता इन राजनीतिक पार्टियों के दोगलेपन से उकता चुका हैं। धोखे की राजनीति करने वालों के दिन लद गए हैं।

बडी राजनीतिक पार्टियों के कुछ कार्यकर्ता फेसबुक और व्हाटसअब पर संदेश का आदान प्रदान कर मेरा उपहास बना रहे हैं। वे यह प्रचारित करने में लगे हैं कि ये निर्दलीय क्या चुनाव जीतेगा। उन शुभचिंतकों को शुभकामना देते हुए कहना चाहूंगा कि इस शहर में नगर निगम के बीते चुनाव परिणामों को उठा कर देख लिजिए, एक नहीं अनेक निर्दलीय पार्षद चुने गए हैं। यह शहर अब जाग चुका है। वरिष्ठ मतदाता झूठे वादों से दुखी हैं वहीं युवा अपने आने वाले कल को लेकर भयभीत हैं। सब बदलाव के इस यज्ञ में आहूति देंगे।

एक प्रत्याशी के रूप में मेरी जीत इस शहर के युवाओं की जीत होगी। हर माता पिता की जीत होगी। हर गरीब की जीत होगी। अपनी बात अधिकाधिक मतदाताओं तक पहुंचाने की कोशिश में लगा हूं। फैसला तो जनता जनार्दन को करना है। अच्छा, बहुत जगह जनसंपर्क करना है कहते उन्होंने अपना टू व्हीलर स्टार्ट किया और आगे बढ गए।

अगर NOTA का बटन दबाने की सोच रहे हैं तो इसे जरूर पढें

बोर्ड कर्मचारियों से मिले अजमेर उत्तर से निर्दलीय प्रत्याशी संदीप तंवर

अजमेर उत्तर से निर्दलीय प्रत्याशी संदीप तंवर ने वार्ड 4 में मांगे वोट

अजमेर उत्तर से निर्दलीय प्रत्याशी संदीप तंवर ने जनसंपर्क में झोंकी ताकत

कांग्रेस प्रत्याशी हेमन्त भाटी ने वार्ड 33 और 23 में साधा संपर्क

अजमेर उत्तर से निर्दलीय प्रत्याशी संदीप तंवर को मिला माली समाज का समर्थन