केपटाउन टेस्ट : 142 रनों की बढ़त के साथ द. अफ्रीका मजबूत

India vs South Africa : Hardik Pandya's fighting 93 lifts
India vs South Africa : Hardik Pandya’s fighting 93 lifts

केपटाउन। दक्षिण अफ्रीका ने न्यूलैंड्स क्रिकेट मैदान पर खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में भारत पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। दूसरे दिन शनिवार का खेल खत्म होने तक मेजबान टीम ने भारत पर 142 रनों की बढ़त ले ली है।

दिन का खेल खत्म होने तक दक्षिण अफ्रीका ने अपनी दूसरी पारी में 20 ओवरों में दो विकेट के नुकसान पर 65 रन बना लिए हैं। स्टम्प्स तक हाशिम अमला चार और कागिसो रबादा दो रन बनाकर खेल रहे हैं।

इससे पहले मेजबान टीम के गेंदबाजों ने अपने बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर भारतीय टीम के मजबूत बल्लेबाजी क्रम को 209 पर ही ढेर करते हुए अपनी टीम को 77 रनों की बढ़त दिला दी थी।

अपनी दूसरी पारी खेलने उतरी दक्षिण अफ्रीका को एडिन मार्कराम (34) और डीन एल्गर (25) ने सधी हुई शुरुआत दी और पहले विकेट के लिए 52 रन जोड़े। इस जोड़ी को हार्दिक पांड्या ने मार्कराम को आउट कर तोड़ा। वहीं पांड्या ने ही 59 के कुल स्कोर पर एल्गर को विकेट के पीछे रिद्धिमान साहा के हाथों कैच कराया।

भारत के लिए दिन के हीरो हरफनमौला खिलाड़ी पांड्या रहे। दूसरे दिन अफ्रीका के दो विकेट चटकाने से पहले उन्होंने अपनी टीम की पहला पारी में सबसे ज्यादा 93 रन बनाए। उन्होंने संकट के समय में 95 गेंदों में 14 चौके और एक छक्के की मदद से आतिशी पारी खेलते हुए अपनी टीम को गर्द में जाने से बचाया। पांड्या ने आठवें विकेट के लिए भुवनेश्वर कुमार (25) के साथ 99 रनों की साझेदारी की।

यह साझेदारी ऐसे समय आई जब भारत ने अपने सात विकेट महज 92 रनों पर ही खो दिए थे। मोर्ने मोर्केल ने भुवनेश्वर को आउट कर इस साझेदारी को तीसरे सत्र में तोड़ा। भुवनेश्वर 191 के कुल स्कोर पर आउट हुए। उनके बाद पांड्या भी ज्यादा देर टिक नहीं सके और कागिसो राबादा ने विकेट के पीछे क्विंटन डी कॉक के हाथों उन्हें कैच कराते हुए शतक पूरा करने से रोक दिया।

जसप्रीत बुमराह (2) को आउट कर राबादा ने भारतीय पारी का अंत किया। मोहम्मद शमी चार रनों पर नाबाद लौटे।

इससे पहले, अपने पहले दिन के स्कोर 28 रनों पर तीन विकेट खोकर बैकफुट पर पहुंच चुकी भारतीय टीम को रोहित और चेतेश्वर पुजारा (26) से ही उम्मीदें थीं। इस जोड़ी ने शुरुआत तो अच्छी की, लेकिन रोहित बीच में ही पुजारा का साथ छोड़ गए। वह रबादा की गेंद पर पगबाधा करार दे दिए गए। फिर पुजारा और रविचंद्रन अश्विन ने पहले सत्र में कोई और झटका नहीं लगने दिया।

दूसरे सत्र में हालांकि भारत ने तीन और विकेट खो दिए जिसमें सबसे अहम विकेट पुजारा का था। पुजारा को 76 के कुल स्कोर पर वार्नोन फिलेंडर ने कप्तान फाफ डु प्लेसिस के हाथों कैच कराया। पांच रन बाद फिलेंडर ने अश्विन (12) को पवेलियन भेज दिया। 92 के कुल स्कोर पर रिद्धिमान साहा बिना खाता खोले डेल स्टेन का शिकार हो गए।

यहां पांड्या ने कदम रखा और हालात के विपरीत आतिशी अंदाज में बल्लेबाजी की। पारी को संभालने में भुवनेश्वर ने पांड्या का बखूबी साथ दिया और सूझबूझ भरी पारी खेली। दोनों खिलाड़ी दूसरे सत्र में नाबाद लौटे थे।

तीसरे सत्र में हालांकि अफ्रीकी गेंदबाजों ने इन दोनों के साथ भारत के बाकी के विकेट लेकर उसे जल्दी पवेलियन भेज दिया।

मैच के पहले दिन (शुक्रवार) को भारतीय गेंदबाजों ने दक्षिण अफ्रीका को 286 रनों पर सीमित कर दिया था। उसके लिए अब्राहम डिविलियर्स 65 और फाफ डु प्लेसिस 62 रन बनाए।

भारत के लिए भुवनेश्वर ने चार विकेट लिए। अश्विन ने दो विकेट चटकाए। मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह और पांड्या को एक-एक विकेट मिला।