भारत की श्रीलंका पर लगातार 12वीं सीरीज जीत

पुणे। ओपनरों लोकेश राहुल (54) और शिखर धवन (52) के बेहतरीन अर्धशतकों के बाद गेंदबाजों के सधे हुए प्रदर्शन से भारत ने श्रीलंका को तीसरे और अंतिम टी-20 मुकाबले में शुक्रवार को 78 रन से हराकर तीन मैचों की सीरीज 2-0 से जीत ली। भारत ने इस तरह श्रीलंका के खिलाफ लगातार 12वीं सीरीज जीत हासिल की।

भारत ने 20 ओवर में छह विकेट पर 201 रन का मजबूत स्कोर बनाने के बाद श्रीलंका को 15.5 ओवर में मात्र 123 रन पर ढेर कर दिया। सीरीज का गुवाहाटी में पहला मैच बारिश के कारण रद्द रहा था जबकि टीम इंडिया ने इसके बाद इंदिर और पुणे में अगले दो मैच जीत कर सीरीज अपने नाम की।

भारत की श्रीलंका के खिलाफ यह लगातार 12वीं द्विपक्षीय सीरीज जीत है। भारत ने इससे पहले श्रीलंका को चार टी-20, चार वनडे और तीन टेस्ट सीरीज में हराया था। भारत इस तरह पिछले 12 वर्षों में श्रीलंका के खिलाफ कोई सीरीज नहीं हारा है।

टॉस हारने के बाद बल्लेबाजी करने उतरे भारत ने शानदार शुरुआत की और उसके दोनों ओपनरों लोकेश राहुल तथा शिखर धवन ने अर्धशतक ठोके। राहुल और शिखर ने पहले विकेट के लिए 10।5 ओवर में 97 रन की ठोस साझेदारी की। भारतीय ओपनरों ने श्रीलंका के तेज और स्पिन गेंदबाजों को सहजता से खेला। शिखर ने 36 गेंदों पर 52 रन की पारी में सात चौके और एक छक्का लगाया जबकि राहुल ने 36 गेंदों में पांच चौकों और एक छक्के की मदद से 54 रन बनाए।

भारतीय कप्तान विराट कोहली आश्चर्यजनक रूप से छठे नंबर पर खेलने उतरे और उन्होंने 17 गेंदों में दो चौकों और एक छक्के के सहारे 26 रन बनाये। विराट ने अपनी पारी का पहला रन बनाने के साथ ही खेल के तीनों फॉर्मेट में कप्तान के रूप में 11 हजार रन पूरे कर लिए और ऐसा करने वाले वह भारत के दूसरे और दुनिया के छठे कप्तान बन गए।

चौथे नंबर पर खेलने वाले मनीष पांडेय ने 18 गेंदों में चार चौकों के सहारे नाबाद 31 रन बनाये जबकि तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर ने कुछ करारे हाथ दिखते हुए आठ गेंदों में एक चौके और दो छक्कों के सहारे नाबाद 22 रन बनाये और भारत को 200 के पार पहुंचाया। दोनों ने आखिरी दो ओवरों में 34 रन ठोक डाले।

शिखर ने 34 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया। शिखर का नवम्बर 2018 के बाद से यह पहला टी-20 अर्धशतक था। शिखर ने अपनी पिछली 15 पारियों में अपना पहला अर्धशतक बनाया लेकिन अर्धशतक पूरा करने के बाद वह चाइनामैन गेंदबाज लक्षण संदाकन की गेंद पर आउट हो गए। शिखर का विकेट 11वें ओवर में गिरा।

इस मैच में ऋषभ पंत की जगह शामिल किये गए विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन ने आने के साथ ही संदाकन की गेंद पर छक्का लगाया लेकिन अगले ओवर में वह वानिन्दु हसारंगा की गेंद पर पगबाधा हो गए। सैमसन ने छह रन बनाए। सैमसन ने पंत की जगह मिले इस मौके को गंवा दिया।

फॉर्म में चल रहे राहुल ने 13वें ओवर की पहली गेंद पर अपना अर्धशतक पूरा किया। उनका अर्धशतक भी 34 गेंदों पर बना लेकिन शिखर की तरह वह भी अर्धशतक पूरा करने के बाद आउट हो गए। राहुल का विकेट भी संदाकन ने लिया। सैमसन का विकेट 106 और राहुल का विकेट 118 के स्कोर पर गिरा।

मैदान पर उतरे श्रेयस अय्यर ने अपनी पहली ही गेंद पर चौका मारा लेकिन अगली गेंद पर वह संदाकन को रिटर्न कैच थमा बैठे। भारत का चौथा विकेट 122 के स्कोर पर गिरा। संदाकन ने इस तरह तीन विकेट लगाकर भारत के बढ़ते कदमों पर ब्रेक लगा दिया।

भारतीय कप्तान विराट कोहली आश्चर्यजनक रूप से छठे नंबर पर खेलने उतरे और 17 गेंदों में दो चौकों और एक छक्के के सहारे 26 रन बनाकर 18वें ओवर में रन आउट हो गए। विराट दूसरा रन चुराने के चक्कर में रन आउट हुए। विराट का विकेट 164 के स्कोर पर गिरा जबकि वाशिंगटन सुंदर खाता खोले बिना इसी स्कोर पर लाहिरू कुमारा का शिकार बन गए।

शार्दुल ठाकुर ने 19वें ओवर में पहली ही गेंद पर श्रीलंका के कप्तान लसित मलिंगा पर छक्का मारा। चौथे नंबर पर उतर कर सधी हुई पारी खेल रहे मनीष पांडे ने इस ओवर की चौथी गेंद पर चौका मारकर भारत के 180 रन पूरे कर दिए। इस ओवर में कुल 15 रन पड़े जिससे भारत का स्कोर सम्मानजनक नजर आने लगा।

ठाकुर ने आखिरी ओवर में कुमारा की दूसरी गेंद पर छक्का और तीसरी गेंद पर चौका मारा जबकि पांडेय ने पांचवीं गेंद पर चौका जड़ दिया।पांडेय ने आखिरी गेंद पर दो रन लेकर भारत को 200 के पार पहुंचा दिया। आखिरी ओवर में 19 रन पड़े। भारत ने इस तरह अंतिम दो ओवर में 34 रन बटोरे। श्रीलंका की तरफ से संदाकन ने 35 रन पर तीन विकेट लिए। कप्तान मलिंगा ने चार ओवर में 40 रन लुटाए। कुमारा और हसारंगा को एक-एक विकेट मिला।