भारतीय क्रिकेट टीम ने पूरे विश्व के सामने एक अनूठी मिसाल पेश की-मोदी

भारतीय क्रिकेट टीम ने पूरे विश्व के सामने एक अनूठी मिसाल पेश की-मोदी
भारतीय क्रिकेट टीम ने पूरे विश्व के सामने एक अनूठी मिसाल पेश की-मोदी

नयी दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत और अफगानिस्तान के बीच हाल में एकमात्र ऐतिहासिक टेस्ट मैच को यादगार बताते हुए कहा है कि इस मैच में भारतीय क्रिकेट टीम ने पूरे विश्व के सामने एक अनूठी मिसाल पेश की।

मोदी ने आकाशवाणी पर प्रसारित होने वाले ‘मन की बात’ कार्यक्रम के 45वें संस्करण में रविवार को कहा ,“अभी कुछ दिन पहले बेंगलुरु में एक ऐतिहासिक क्रिकेट मैच हुआ जो भारत और अफगानिस्तान के बीच टेस्ट मैच था। यह अफगानिस्तान का पहला टेस्ट मैच था और यह हर भारतीय के लिए गर्व की बात है कि अफगानिस्तान का यह ऐतिहासिक मैच भारत के साथ था।”

प्रधानमंत्री ने कहा,“इस मैच में दोनों ही टीमों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और दूसरे अफगानिस्तान के ही एक गेंदबाज राशिद खान ने तो इस वर्ष आईपीएल में भी काफ़ी अच्छा प्रदर्शन किया था और मुझे याद है कि अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ गनी ने मुझे टैग कर अपने ट्विटर पर लिखा था- अफगानिस्तान के लोगों को अपने हीरो राशिद पर अत्यंत गर्व है। मैं हमारे भारतीय मित्रों का भी आभारी हूं जिन्होंने हमारे खिलाड़ियों को अपना कौशल दिखाने के लिए एक मंच प्रदान किया है। अफगानिस्तान में जो श्रेष्ठ है राशिद उसका प्रतिनिधित्व करता है। वह क्रिकेट की दुनिया का हीरा है और इसके साथ-साथ उन्होंने थोड़ा मजाकिये अंदाज़ में ये भी लिखा -“नहीं हम उसे किसी को देने वाले नहीं हैं।”

मोदी ने कहा, “यह मैच हम सभी के लिए एक यादगार रहेगा। खैर ये पहला मैच था इसलिए याद रहना तो बहुत स्वाभाविक है लेकिन मुझे यह मैच किसी एक विशेष कारण से याद रहेगा। भारतीय टीम ने कुछ ऐसा किया,जो पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है। भारतीय टीम ने ट्रॉफी लेते समय अफगानिस्तान की टीम को आमंत्रित किया और दोनों टीमों ने साथ में फोटो ली।”

प्रधानमंत्री ने कहा,“खेल भावना क्या होती है इसे हम इस एक घटना से अनुभव कर सकते हैं। खेल समाज को एकजुट करने और हमारे युवाओं का जो कौशल है,उनमें जो प्रतिभा है, उसे खोज निकालने का एक बेहतरीन तरीक़ा है। भारत और अफगानिस्तान दोनों टीमों को मेरी शुभकामनाएं हैं। मुझे उम्मीद है हम आगे भी इसी तरह एक-दूसरे के साथ पूरी खेल भावना के साथ खेलेंगे भी, खिलेंगे भी।”