यूक्रेन से जोधपुर लौटी सुरभि, बोली तिरंगे ने सकुशल घर पहुंचा दिया

जोधपुर। युद्धग्रस्त यूक्रेन से लौटे छात्रों से शनिवार को केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने वीडिया कॉल पर बात की और उनका हालचाल जाना। घर लौटी सूर्यनगरी की बेटी सुरभि श्रीवास्तव ने केंद्रीय मंत्री शेखावत को बताया कि हमारा तिरंगा हमारा गर्व है और इसी तिरंगे के कारण युद्ध क्षेत्र में भारतीय छात्र बेखौफ होकर सकुशल आ पा रहे हैं। किसी में दम नहीं है कि तिरंगा लगी बस को कहीं कोई रोक दे। सुरभि ने बताया कि दुनिया में हमारे तिरंगे की महत्ता क्या है? यह यूक्रेन से आने वाले किसी भी भारतीय से पूछ सकते हैं। सकुशल वापसी पर छात्रों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त किया।

सुरभि श्रीवास्तव ने केंद्रीय मंत्री शेखावत के साथ वीडियो कॉल पर बताया कि यूक्रेन में कीव से दो बसों में 173 से अधिक छात्र सवार होकर बॉडर्र के लिए रवाना हुए थे। बस में राजस्थान और केरल के छात्र थे। उसने अपने बैग से झंडा निकाला और बस के आगे लगा दिया। बस को एक-दो स्थानों पर यूक्रेन आर्मी ने बस को रोका, लेकिन तिरंगा देखते ही कह दिया कि यह तो भारत के बच्चों की बस है। उन्होंने बस को रोका नहीं। सुरभि के दादा सेना से रिटायर्ड हैं। वो तिरंगे से बेहद प्यार करती है। यही कारण की वह हमेशा अपने कमरे में तिरंगा लगाकर रहती थी। यही तिरंगा यूक्रेन में भारतीय छात्रों का सुरक्षा कवच बना।

भाजपा के जिलाध्यक्ष देवेंद्र जोशी, जोधपुर दक्षिण की महापौर वनिता सेठ, उप महापौर किशन लढ्ढा, पूर्व महापौर देवेंद्र सालेचा यूक्रेन से लौटे छात्रों से मिलने उनके निवास पहुंचे। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्री शेखावत की ओर से छात्रों का माला पहनाकर स्वागत किया। सालेचा ने बताया कि यूक्रेन में फंसे जोधपुर के छात्रों का घर पहुंचने का क्रम आरंभ हो गया है। भाजपा नेताओं ने यूक्रेन से देव पुरोहित, सिमरन मेवाड़ा, नेहा भाटी और सविता पुरोहित से भी उनके घर जाकर मुलाकात की।

रशिया-युक्रेन युद्ध और तिरंगे का मूल्य