Good News : महिला यात्रियों के लिए ट्रेनों में होंगी छह सीटें आरक्षित

indian railway to reserve six seats in each sleeper and AC coach for women passengers

झांसी। ट्रेन में अकेली सफर करने वाली महिला यात्रियों को प्राथमिकता के आधार पर खाली बर्थ पहले सुरक्षित की जाएंगी। एक पीएनआर नंबर पर अगर एक महिला या समूह में महिलाएं हैं, तो उन्हें सभी एक्सप्रेस और मेल ट्रेनों के स्लीपर और एसी कोच में छह सीटें सुरक्षित की गई हैं।

इस संबंध में रेलवे बोर्ड ने सभी जोन को अधिसूचना जारी कर दी है। रेलवे बोर्ड ने सभी जोन को निर्देश दिया है कि ट्रेन में अकेले सफर कर रही महिला यात्रियों को प्राथमिकता के आधार पर खाली बर्थ उपलब्ध कराया जाए।

उत्तर मध्य रेलवे के झांसी मंडल के पीआरओ मनोज कुमार सिंह ने बताया कि रेलवे बोर्ड के निर्देश पर आरक्षण टिकट सिस्टम को अपग्रेड कर लिया गया है। अकेले सफर कर रही महिला यात्रियों के लिए स्लीपर और एसी कोच में छह बर्थ सुरक्षित रखे जा रहे हैं और प्राथमिकता के आधार पर उन्हें बर्थ दी जा रही है।

यह सुविधा सिर्फ उन्हीं महिलाओं को मिलेगी, जिनके पीएनआर नंबर पर सिर्फ महिला यात्री होंगी, चाहे वह अकेली हों या फिर समूह में। वहीं, एक पीएनआर नंबर पर महिला यात्रियों के साथ-साथ पुरुष यात्री भी शामिल हैं, तो उन्हें कोटे का लाभ नहीं मिलेगा।

चार्ट के तैयार होने तक महिला कोटे की बर्थ खाली है, तो वेटिंग लिस्ट वाली उन महिलाओं को प्राथमिकता के आधार पर बर्थ दी जाएंगी, जो ट्रेन में अकेले सफर कर रही होंगी।

वहीं, महिलाओं के लिए सुरक्षित बर्थ खाली रहने की स्थिति में प्राथमिकता के आधार पर वरिष्ठ नागरिकों को यह सुविधा दी जाएगी। साथ ही गर्भवती महिलाएं और बुजुर्ग यात्रियों के लिए भी स्लीपर और एसी कोच में छह लोअर सीटों को सुरक्षित रखा गया है, ताकि उन्हें सफर के दौरान कोई परेशानी नहीं हो।