लॉकडाउन में फंसे लोगों को उनके गृहक्षेत्र पहुंचाने को चलेंगी 13 और श्रमिक स्पेशल ट्रेनें

Verified Apps to watch T20 World Cup 2022 Live Stream

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने देश के विभिन्न भागों में फंसे मजदूरों, पर्यटकों, विद्यार्थियों एवं अन्य लोगों को उनके गृहक्षेत्र में पहुंचाने के लिए अब तक 45 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाईं हैं तथा सोमवार रात से एक दर्जन से अधिक गाड़ियां चलने की उम्मीद है।

रेलवे बोर्ड के सूत्रों के अनुसार अभी तक 45 विशेष ट्रेनें परिचालित हो चुकी हैं जबकि लगभग 13 अन्य ट्रेनें बेंगलूरु, सूरत, साबरमती, वडोदरा, अकोला, कोटा आदि स्थानों से उत्तर प्रदेश, ओडिशा, बिहार, झारखंड एवं पश्चिम बंगाल के लिए चलाईं जा सकतीं हैं।

श्रमिक दिवस के मौके पर सरकार ने लॉकडाउन के कारण देश के विभिन्न भागों में फंसे मजदूरों एवं छोटे कामगारों, पर्यटकों, विद्यार्थियों एवं अन्य व्यक्तियों को उनके गृहनगर तक पहुंचाने के लिए उद्देश्य से श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाने का फैसला किया था जिसके तहत पहले दिन शुक्रवार एक मई की शाम छह गाड़ियां चलाई गई थीं।

सूत्रों के अनुसार राज्य सरकारों के अनुरोध पर ये स्पेशल ट्रेनें एक स्थान से दूसरे स्थान तक सीधे चलाई जा रहीं हैं और यात्रियों को पहुंचाने के लिए मानक प्रोटोकॉल का अनुपालन किया जा रहा है। रेलवे एवं राज्य सरकारों ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के सुचारु रूप से परिचालन एवं समन्वय के लिए नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की है।

सरकार ने तय किया है कि इन ट्रेनों में यात्रा के लिए यात्रियों को कोई टिकट नहीं लेना पड़ेगा। चूंकि इन्हें राज्यों के अनुरोध पर चलाया जा रहा है इसलिए रेलवे को राज्य सरकारें भुगतान करेंगी।

सूत्रों के अनुसार यात्री जिस राज्य से सवार होते हैं, उस राज्य की सरकारें यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग एवं अन्य सावधानियों का पालन करते हुए सेनिटाइज़्ड बसों में एक एक बैच के रूप में लाया जाता है और फिर स्टेशन पर ट्रेन में बिठाने से पहले यात्रियों की जांच की जाती है। जिनमें संक्रमण के लक्षण नहीं पाए जाते हैं उन्हें ही यात्रा करने की अनुमति दी जाती है।

प्रत्येक यात्री के लिए फेस कवर पहनना अनिवार्य किया गया है। भोजन एवं पानी गाड़ी छूटने वाले स्टेशन की राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराया जा रहा है। लंबी दूरी वाली गाड़ियों में रेलवे भोजन उपलब्ध करा रही है। गंतव्य पर पहुंचने पर यात्रियों की पुन: राज्य सरकार जांच कराती है। ज़रूरी होने पर उनको क्वारेंटाइन किया जा रहा है और यदि जरूरत नहीं हाेती है तो उनके आगे की यात्रा की व्यवस्था की जाती है।

यह भी पढें
राजस्थान में कोरोना संक्रमित की संख्या 3061 पहुंची, छह की मौत
अजमेर में चार नए कोरोना पाॅजिटिव, संख्या 172 पहुंची
लॉकडाउन में फंसे श्रमिकों के जाने का किराया खर्च उठाएगी राज्य सरकार : गहलोत
श्रमिक स्पेशल के यात्रियों से किराया वसूली कहीं काेई साजिश तो नहीं : रेलवे
मध्यप्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या 2942 हुयी, 165 की मौत, 856 स्वस्थ हुए
देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 43 हजार के करीब,1389 की मौत
गुजरात में 29 और मरे, 376 नये मामले, कुल संख्या 5800 के पार
देश में कोरोना संक्रमितों के ठीक होने की दर में निरंतर वृद्धि