भारत की दो दिन में अपने टेस्ट इतिहास की सबसे बड़ी जीत

भारत की दो दिन में अपने टेस्ट इतिहास की सबसे बड़ी जीत
भारत की दो दिन में अपने टेस्ट इतिहास की सबसे बड़ी जीत

बेंगलूरू। ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के पहली पारी में 27 रन पर चार विकेट और लेफ्ट आर्म स्पिनर रवींंद्र जडेजा के दूसरी पारी में 17 रन पर चार विकेट की बदौलत विश्व की नंबर एक टीम भारत ने नवोदित अफगानिस्तान को एकमात्र टेस्ट में दूसरे ही दिन शुक्रवार को पारी और 262 रन से रौंदकर अपने टेस्ट इतिहास की सबसे बड़ी जीत दर्ज कर ली।

भारत ने पहली पारी में 474 रन बनाये और अपना पदार्पण टेस्ट खेल रहे अफगानिस्तान को एक ही दिन में 109 और 103 रन पर समेट दिया। भारत ने अफगानिस्तान से फॉलोआन कराया और दो दिन के अंदर मैच समाप्त कर दिया। भारत की इससे पहले सबसे बड़ी जीत पारी और 239 रन से थी जो उसने मई 2007 में बांग्लादेश केे खिलाफ ढाका में और नवंबर 2017 में श्रीलंका के खिलाफ नागपुर में हासिल की थी।

भारत ने 18वीं बार अपने टेस्ट इतिहास में पारी से जीत हासिल की। भारत ने सुबह छह विकेट पर 347 रन से आगे खेलते हुये पहली पारी में 474 रन बनाये। अफगानिस्तान की टीम अपनी पहली पारी में मात्र 27.5 ओवर में 109 रन पर ढेर हो गयी और दूसरी पारी में हालांकि उसने 38.4 ओवर खेले लेकिन उसका बोरिया बिस्तरा 103 रन पर बंध गया।

ट्वंटी 20 क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करने वाली और हाल में बंगलादेश को 3-0 से पीटकर इस मैच में उतरी अफगानिस्तान की टीम को विश्व की नंबर एक टीम भारत ने यह सबक दे दिया कि लंबे फार्मेट में उसे अभी काफी मेहनत करनी है। अफगानिस्तान की पहली पारी में जहां अश्विन ने आठ ओवर में 27 रन पर चार विकेट लिये वहीं इशांत शर्मा ने 28 रन पर दो विकेट, जडेजा ने 18 रन पर दो विकेट और उमेश यादव ने 18 रन पर एक विकेट लिया। यादव ने इस एक विकेट के साथ अपने 100 टेस्ट विकेट भी पूरे कर लिए।

दूसरी पारी में जडेजा ने 17 रन पर चार विकेट, यादव ने 26 रन पर तीन विकेट, इशांत ने 17 रन प दो विकेट और अश्विन ने 32 रन पर एक विकेट लिया। जडेजा ने मैच में कुल छह विकेट, अश्विन ने पांच विकेट, यादव ने चार विकेट और इशांत ने चार विकेट हासिल कर इस ऐतिहासिक टेस्ट को दो दिन में समाप्त कर दिया।

अफगानिस्तान के कप्तान असगर स्तानिकज़ई ने मैच से पहले अपने स्पिनरों को भारतीय स्पिनरों के मुकाबले श्रेष्ठ बताया था, लेकिन दो दिन में टेस्ट समाप्त होने के बाद स्तानिकज़ई को यह पता चल गया होगा कि ‘स्पिन का बॉस’ कौन है। भारत की यह दो दिनों में पहली टेस्ट जीत है।

भारतीय टीम ने पहली पारी में 365 रन की विशाल बढ़त हासिल कर अफगानिस्तान को फॉलोआन खेलने के लिये मजबूर किया। अफगानिस्तान की दूसरी पारी में हशमतुल्लाह शाहिदी ने सर्वाधिक नाबाद 36 और कप्तान स्तानिकज़ई ने 25 रन बनाये। यादव ने दूसरी पारी में शीर्ष चार में से तीन विकेट निकालकर अफगानिस्तान को झकझोरा जबकि जडेजा ने आखिरी छह में से चार विकेट लेकर मेहमान टीम को जमीन सुंघा दी।

अफगानिस्तान की बल्लेबाजी का दोनों पारियों में बेहद खराब प्रदर्शन रहा और एक दिन से कम के खेल में उसकी दोनों पारियां सिमट गयीं। अफगानिस्तान के लिये पहली पारी की शुरूआत निराशाजनक रही और मोहम्मद शहज़ाद(14) चौथे ही ओवर में हार्दिक पांड्या के हाथों रनआउट हो गये। जावेद अहमदी आठ गेंदों में एक ही रन बना सके और इशांत ने उन्हें बोल्ड किया।

रहमत शाह ने 15 गेंदों में दो चौके लगाकर 14 रन बनाये और उमेश ने उन्हें पगबाधा किया।
अफगान बल्लेबाज़ों पर भारतीय गेंदबाज़ों का दबाव साफ दिखा और 50 रन पर आधी टीम पवेलियन लौट गयी। विकेटकीपर अफसर जजई (06) को भी इशांत ने बोल्ड किया। इसके बाद भारतीय स्पिनरों की विशेषज्ञ जोड़ी अश्विन और जडेजा ने मध्य एवं निचले क्रम को धराशायी किया। अश्विन ने अफगान कप्तान स्तानिकज़ई को अपना पहला शिकार बनाया जो 11 रन ही बना सके।

स्तानिकज़ई ने 14 गेंदों में दो चौके लगाए और अश्विन ने उन्हें बोल्ड कर पांचवें बल्लेबाज़ के रूप में वापिस भेजा। इसके बाद हस्मतुल्लाह शाहिदी (11) अश्विन की गेंद पर पगबाधा हो गए। राशिद आईपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद के लिये आखिरी समय में धुआंधार पारी के लिये चर्चा में आये थे लेकिन इस बार वह सात रन पर जडेजा का शिकार बने।

अश्विन ने फिर यामिन अहमदज़ई को शून्य पर जडेजा के हाथों कैच कराया जबकि मोहम्मद नबी नौवें बल्लेबाज़ के रूप में अश्विन की गेंद पर शर्मा को कैच दे बैठे। नबी ने सर्वाधिक 24 रन की पारी खेली। मुजीब उर रहमान ने आखिरी समय में 15 रन जोड़े और जडेजा ने उन्हें दिनेश कार्तिक के हाथों स्टंप कराकर अफगानिस्तान की पारी 109 रन पर समेट दी।

इससे पहले आलराउंडर हार्दिक पांड्या की 71 रन की तेज तर्रार पारी की बदौलत भारत ने 474 रन का विशाल स्कोर बनाया। भारत ने कल के छह विकेट पर 347 रन से आगे खेलना शुरू किया था। पांड्या ने 10 रन से आगे खेलते हुए 94 गेंदों में 10 चौकों की मदद से 71 रन बनाये। पांड्या का यह तीसरा अर्धशतक था। रविचंद्रन आश्विन ने 18, रवींद्र जडेजा ने 20 और 11वें नंबर के बल्लेबाज उमेश यादव ने 21 गेंदों में दो चौके और दो छक्के उड़ाते हुए नाबाद 26 रन ठोके। भारतीय पारी 104.5 ओवर में समाप्त हुई।

अहमदज़ई ने 51 रन पर तीन विकेट , 18 साल के वफादार ने 100 रन देकर दो विकेट , राशिद ने 34.5 ओवर में 154 रन लुटाकर दो विकेट, मुजीब ने 75 रन देकर एक विकेट और नबी ने 65 रन पर एक विकेट लिया।

भारत के खिलाफ पदार्पण टेस्ट खेलने वाले देशों में अफगानिस्तान अब चौथा देश बन गया है जिसे हार का सामना करना पड़ा। इससे पहले पाकिस्तान ने 1952, जिम्बाब्वे ने 1993 और बंगलादेश ने 2000 में पराजय झेली थी।