एडिलेड टेस्ट में 166 रनों की बढ़त के साथ भारत की पकड़ मज़बूत

India's grip with 166-run lead Against Australia
India’s grip with 166-run lead Against Australia

एडिलेड। भारत ने गेंदबाज़ों के शानदार प्रदर्शन के बाद संतुलित बल्लेबाज़ी की बदौलत आस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के तीसरे दिन शनिवार को अपनी दूसरी पारी में दिन की समाप्ति तक तीन विकेट के नुकसान पर 166 रनों की बढ़त के साथ मैच में अपनी स्थिति मजबूत कर ली।

यहां एडिलेड ओवल में तीसरे दिन का खेल वर्षा से प्रभावित रहा लेकिन भारत ने दूसरी पारी में दिन का खेल समाप्त होने तक 61 ओवर में तीन विकेट के नुकसान पर 151 रन बना लिए हैं और उसकी कुल बढ़त 166 रन पहुंच गई है। बल्लेबाज़ चेतेश्वर पुजारा 40 रन और अजिंक्या रहाणे एक रन बनाकर नाबाद क्रीज पर हैं जबकि टीम के अभी सात विकेट सुरक्षित हैं जिससे उसने पहले टेस्ट में आस्ट्रेलियाई टीम पर अपनी पकड़ मजबूत बना ली है।

दूसरी पारी में ओपनर लोकेश राहुल ने 44 रन, मुरली विजय ने 18 रन और कप्तान विराट कोहली ने 34 रन बनाए। विराट हालांकि अपनी संक्षिप्त पारी के बावजूद आस्ट्रेलिया की ज़मीन पर सबसे तेज़ 1000 टेस्ट रन बनाने वाले पहले और ओवरऑल चौथे भारतीय बल्लेबाज़ भी बन गए। विराट को इस आंकड़े तक पहुंचने के लिए सीरीज से पूर्व मात्र 8 रनों की ज़रूरत थी।

मैच में सुबह का सत्र बारिश से प्रभावित रहा जिसमें भारत ने आस्ट्रेलिया की पहली पारी को 98.4 ओवर में 235 पर ढेर कर दिया। भारत को आखिरी दो गेंदों पर दो विकेट हाथ लगे और उसे पहली पारी में 15 रन की बढ़त मिली। लेकिन भारत की दूसरी पारी में बल्लेबाज़ों ने मुश्किल पिच पर संतुलित बल्लेबाज़ी से तीसरे दिन स्टम्प्स तक इस बढ़त को 166 रन तक पहुंचा दिया।

पहली पारी की तुलना में दूसरी पारी में भारत की शुरूआत इस बार बेहतर रही और राहुल तथा मुरली ने ओपनिंग विकेट के लिए 63 रन की अर्धशतकीय साझेदारी की। पारी के 19वें ओवर में तेज़ गेंदबाज़ मिशेल स्टार्क ने पीटर हैंड्सकोंब के हाथों मुरली को कैच कराकर इस साझेदारी को तोड़ा। मुरली ने 53 गेंदों का सामना किया और 18 रन बनाकर आउट हुए जबकि पहली पारी में भी वह 11 रन पर सस्ते में आउट हुए थे।

हालांकि राहुल ने इस बार बेहतर रन बनाये और 67 गेंदों में तीन चौके और एक छक्का लगाकर 44 रन जोड़े। वह अपने अर्धशतक से छह रन ही दूर थे कि जोश हेजलवुड ने उन्हें टिम पेन के हाथों कैच करा दिया। इसके बाद पहली पारी के शतकधारी पुजारा ने कप्तान विराट के साथ तीसरे विकेट के लिए 71 रन की उपयोगी साझेदारी कर रन गति को बढ़ाया।

विराट ने मैच में जैसे ही शुरूआती पांच रन बनाए उनके नाम आस्ट्रेलिया में सबसे तेज़ 1000 टेस्ट रन की उपलब्धि भी जुड़ गई। उन्होंने 18 पारियों में यह कामयाबी हासिल की है जो किसी भारतीय बल्लेबाज़ का सबसे तेज प्रदर्शन है। इस मामले में वह सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ के बाद ओवरऑल चौथे भारतीय हैं।

भारतीय कप्तान ने 104 गेंदों का सामना किया और तीन चौके लगाकर 34 रन बनाए। आस्ट्रेलियाई ऑफ स्पिनर नाथन लियोन ने मैच के 58वें ओवर की पहली ही गेंद पर विराट को आरोन फिंच के हाथों कैच कराकर बड़ी पारी से रोक दिया। हालांकि स्टम्प्स तक श्रीमान भरोसेमंद बल्लेबाज पुजारा एक छोर संभाले खड़े रहे और 127 गेंदों में 40 रन बनाकर नाबाद लौटे। उनके साथ उपकप्तान रहाणे फिलहाल क्रीज़ पर हैं।

आस्ट्रेलिया के लिये तेज़ गेंदबाज़ स्टार्क ने 10 ओवर में 18 रन देकर एक, हेजलवुड ने 16 ओवर में 25 रन पर एक और अनुभवी आॅफ स्पिनर लियोन ने 22 ओवर में 48 रन देकर भारत का एक-एक विकेट निकाला।

इससे पहले सुबह सत्र की शुरूआत में आस्ट्रेलिया ने कल के 191 रन पर सात विकेट से पारी को आगे बढ़ाया। उस समय तक मैच में दोनों टीमें बराबरी पर दिख रही थीं लेकिन मेजबान टीम ने अपने आखिरी तीन विकेट कल के स्कोर में मात्र 44 रन जोड़कर गंवा दिये जिसने विपक्षी भारतीय टीम को 15 रन की बढ़त दिला दी।

आस्ट्रेलिया के लिये कल के नाबाद बल्लेबाज़ों ट्रेविस हेड(61) और स्टार्क(8) ने अपनी पारियों को आगे बढ़ाया और आठवें विकेट के लिए 27 रन जोड़े। भारतीय तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह ने स्टार्क को विकेटकीपर रिषभ पंत के हाथों कैच कराकर आस्ट्रेलिया का आठवां विकेट निकाल दिया। स्टार्क ने 34 गेंदों में एक चौका लगाकर 15 रन जोड़े।

हालांकि आस्ट्रेलिया ने फिर अपने आखिरी दो विकेट 99वें ओवर की तीसरी और चौथी दो गेंदों पर गंवाए। तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद शमी ने हेड को पंत के हाथों कैच कराया जबकि अगली गेंद पर शमी ने हेज़लवुड को पंत के हाथों ही कैच कराकर आस्ट्रेलिया की पारी 235 के स्कोर पर समेट दी। हेड ने 167 गेंदों में छह चौके लगाकर 72 रन बनाए जो उनकी पारी में सबसे बड़ा स्कोर रहा।

इसी के साथ युवा विकेटकीपर पंत ने आस्ट्रेलिया की पहली पारी में स्टम्प्स के पीछे छह शिकार करने के मामले में पूर्व भारतीय टेस्ट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के एक पारी में सर्वाधिक कैच लपकने के रिकार्ड की भी बराबरी कर ली। पंत ने मैच में उस्मान ख्वाजा, पीटर हैंड्सकोंब, ट्रेविस हेड, टिम पेन, मिशेल स्टार्क और हेजलवुड के कैच लपके।

भारत की ओर से तेज़ गेंदबाज बुमराह ने 24 ओवर में 47 रन देकर तीन विकेट और ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने 57 रन पर तीन विकेट लिए। तेज गेंदबाज़ इशांत शर्मा को 47 रन और शमी ने 58 रन पर दो विकेट निकाले।