IPL 2018 : सनराइजर्स हैदराबाद को हराकर फाइनल में पहुंची चेन्नई सुपरकिंग्स

IPL 2018: Chennai SuperKings beat Sunrisers Hyderabad to enter IPL final
IPL 2018: Chennai SuperKings beat Sunrisers Hyderabad to enter IPL final

मुंबई। फाफ डू प्लेसिस की नाबाद 67 रन की कमाल की पारी से चेन्नई सुपरकिंग्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को पहले क्वालीफायर में मंगलवार को पांच गेंद शेष रहते दो विकेट से हराकर आईपीएल 11 के फाइनल में प्रवेश कर लिया। डू प्लेसिस ने विजयी छक्का मारा।

डू प्लेसिस ने मात्र 42 गेंदों पर पांच चौके और चार छक्के उड़ाते हुए नाबाद 67 रन की मैच विजयी पारी खेली। हैदराबाद को सात विकेट पर 139 रन पर रोकने के बाद चेन्नई ने 19.1 ओवर में आठ विकेट पर 140 रन बनाकर मैच जीत लिया। डू प्लेसिस इस पारी के लिए मैन ऑफ द मैच रहे।

डू प्लेसिस का अच्छा साथ दिया शार्दुल ठाकुर ने जिन्होंने 19 वें ओवर में तीन चौके लगाने सहित पांच गेंदों में नाबाद 15 रन बनाये। दो बार चैंपियन रहे चेन्नई ने इस तरह सातवीं बार फाइनल में जगह बनायी। इस हार के बावजूद हैदराबाद के पास दूसरा मौका रहेगा। हैदराबाद की टीम अब कोलकाता और राजस्थान के बीच एलिमिनेटर के विजेता से दूसरे क्वालीफायर में खेलेगी। दूसरे क्वालीफायर की विजेता टीम 27 मई के फाइनल में चेन्नई से भिड़ेगी।

लक्ष्य का पीछा करते हुए चेन्नई ने शेन वाटसन को पहले ओवर की पांचवीं गेंद पर गंवा दिया। भुवनेश्वर ने वाटसन को खाता खोलने का मौका दिए बिना विकेट के पीछे कैच करा दिया। फाफ डू प्लेसिस और सुरेश रैना टीम के स्कोर को 24 रन तक ले गए। इस स्कोर पर तेज गेंदबाज सिद्धार्थ कौल ने चौथे ओवर में लगातार गेंदों पर रैना और अंबाटी रायुडू के विकेट झटक लिए। रैना ने 13 गेंदों पर 22 रन में चार चौके लगाए।

चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने मैदान में आकर कौल को हैट्रिक करने से रोका लेकिन वह ज्यादा देर क्रीज पर नहीं रह पाए। धोनी 18 गेंदों का सामना कर नौ रन ही बना पाए और अफगानिस्तान के युवा लेग स्पिनर राशिद खान की गेंद पर बोल्ड हो गए। राशिद ने ड्वेन ब्रावो को को स्लिप में शिखर धवन के हाथों कैच कराया। ब्रावो 11 गेंदों पर सात रन ही बना सके और चेन्नई का पांचवां विकेट 57 के स्कोर पर गिर गया।

रवींद्र जडेजा पांच गेंदों में तीन रन बनाने के बाद संदीप शर्मा को रिटर्न कैच दे बैठे। चेन्नई का छठा विकेट 62 के स्कोर पर गिरा। पिछले मैच में 39 रन बनाने वाले दीपक चाहर ने एक छक्का उड़ाया और छह गेंदों में 10 रन बनाने के बाद संदीप शर्मा का दूसरा शिकार बन गए। चाहर का विकेट 15 वें ओवर की आखिरी गेंद पर 92 के स्कोर पर गिरा।

विकेटों के पतन के बीच ओपनर फाफ डू प्लेसिस ने मोर्चा संभाले रखा और रन बटोरते हुए चेन्नई की उम्मीदों को बनाये रखा। लेकिन मंजिल दूर दिखाई दे रही थी और बड़े शॉट नहीं निकल पा रहे थे। 17 ओवर की समाप्ति पर चेन्नई का स्कोर 97 रन था। डू प्लेसिस ने 18 वें ओवर में चौका लगाकर चेन्नई के 100 रन पूरे कर दिए और फिर कार्लोस ब्रैथवेट की अगली गेंद पर छक्का जड़ दिया।

डू प्लेसिस ने इसके साथ ही अपने 50 रन पूरे कर लिए। डू प्लेसिस ने अगली गेंद पर चौका लगाया और तीन गेंदों पर 14 रन बटोर लिए। पांचवीं गेंद पर हरभजन सिंह रन आउट हो गए। चेन्नई का आठवां विकेट 113 के स्कोर पर गिर गया। डू प्लेसिस ने अंतिम गेंद पर चौका मारा और 18 वें ओवर में कुल 20 रन पड़े।

सिद्धार्थ कौल के 19 वें ओवर की पहली गेंद पर चौका पड़ा। दूसरी गेंद पर भी चौका गया। दोनों चौके विकेट के पीछे गए। दोनों चौके शार्दुल ठाकुर ने मारे और अंतिम गेंद पर चौका लगाकर अंतिम ओवर में स्थिति छह गेंदों पर छह रन कर दी। डू प्लेसिस ने 20 वें ओवर की पहली गेंद पर छक्का मारकर मैच समाप्त कर दिया। संदीप शर्मा ने 30 रन पर दो विकेट, सिद्धार्थ ने 32 रन पर दो विकेट और राशिद ने 11 रन पर दो विकेट लिए।

इससे पहले चेन्नई ने अपने गेंदबाजों के जबरदस्त प्रदर्शन से सनराइजर्स हैदराबाद को सात विकेट पर 139 रन पर रोक दिया। चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग करने फैसला किया। स्टार ओपनर शिखर धवन के पहली गेंद पर बोल्ड होने के बाद हैदराबाद की टीम मुकाबले में नहीं लौट सकी। श्रीवत्स गोस्वामी 12, मनीष पांडेय 8 और शाकिब अल हसन 12 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। कप्तान केन विलियम्सन 15 गेंदों में चार चौकों की मदद से 24 रन बनाकर आउट हुए।

हैदराबाद ने अपने पांच विकेट 12 वें ओवर तक 69 पर गंवा दिए जबकि युसूफ पठान 15 वें ओवर की आखिरी गेंद पर आउट हो गए। पठान ने 29 गेंदों पर तीन चौकों के सहारे 24 रन बनाये। हैदराबाद का छठा विकेट 88 के स्कोर पर गिरा। कार्लोस ब्रैथवेट ने भुवनेश्वर कुमार के साथ सातवें विकेट के लिए 51 रन की बेशकीमती साझेदारी कर हैदराबाद को 139 के सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

ब्रैथवेट 29 गेंदों में एक चौके और चार छक्कों की मदद से 43 रन बनाकर नाबाद रहे जबकि भुवनेश्वर सात रन बनाकर अंतिम गेंद पर रन आउट हुए। ड्वेन ब्रावो ने 25 रन देकर तीन विकेट हासिल किए।

शिखर को पहली गेंद पर बोल्ड करने वाले दीपक चाहर ने 31 रन पर एक विकेट, लुंगी एनगिदी ने 20 रन पर एक विकेट, शार्दुल ठाकुर ने 50 रन पर एक विकेट और रवींद्र जडेजा ने 13 रन पर एक विकेट लिया।