घर में सनराइजर्स हैदराबाद को रोकेगी राजस्थान रॉयल्स

जयपुर। आईपीएल-11 में उतार चढ़ाव से गुज़र रही अजिंक्या रहाणे की राजस्थान रॉयल्स रविवार को घरेलू मैदान पर होने वाले मैच में मजबूत सनराइजर्स हैदराबाद के विजयी रथ को थामकर अपनी लय बनाने के लक्ष्य के साथ उतरेगी।

राजस्थान ने अब तक छह मैचों में तीन जीते हैं और तीन हारे हैं और वह छह अंक लेकर पांचवें नंबर पर चल रही है जबकि हैदराबाद ने सात मैचों में अब तक दो ही हारे हैं और पांच जीते हैं जिसकी बदौलत वह दूसरे नंबर पर है। हैदराबाद ने पिछले मैच में किंग्स इलेवन पंजाब को 13 रन से हराया था।

इस मैच में उसने 132 रन के छोटे लक्ष्य का भी बचाव किया था जबकि इससे पिछले मैच में उसने मुंबई इंडियन्स के खिलाफ अपने 118 रन के छोटे स्कोर का बचाव किया था। केन विलियम्सन की कप्तानी वाली टीम का बल्लेबाजी क्रम अब तक कमजोर रहा है लेकिन उसके गेंदबाज़ उसकी सबसे बड़ी ताकत हैं जो निरंतर उसे मैचों में जीत दिला रहे हैं।

हालांकि राजस्थान के प्रदर्शन में उतार चढ़ाव दिखाई दे रहा है। उसने मुंबई के खिलाफ पिछला मैच तीन विकेट से जीता था। टीम के पास बल्लेबाजी और गेंदबाजी में संतुलन है। कप्तान और भारतीय टीम के भरोसेमंद बल्लेबाज़ रहाणे, संजू सैमसन, बेन स्टोक्स, के गौतम, जोस बटलर जैसे अच्छे बल्लेबाज़ उसके पास हैं जिन्हें हैदराबाद के जबदस्त गेंदबाजों के सामने टिककर रन बटोरने होंगे।

राजस्थान अपने पिछले मैच में जीत के बाद घरेलू मैदान पर खेलने उतरेगी तो आत्मविश्वास के साथ उसे घरेलू परिस्थितियों का भी फायदा मिलेगा। संजू 47.80 के औसत से छह मैचों में 239 रन बनाकर टीम के अहम स्कोरर हैं। लेकिन रहाणे बल्ले से बहुत प्रभावित नहीं कर सके हैं और 26.66 के औसत से उन्होंने 160 रन जोड़े हैं जिसमें मात्र 45 रन ही उनका बड़ा स्कोर है।

हैदराबाद ने जहां बहुत छोटे स्कोर का भी बचाव अपने गेंदबाज़ों के दम पर किया है तो ऐसे में राजस्थान के बल्लेबाज़ों के लिये बोर्ड पर बड़े स्कोर के साथ अच्छी गेंदबाजी भी दिखानी होगी। टीम के पास अफगानिस्तान के राशिद खान जैसा नंबर एक गेंदबाज़ है जिन्होंने 22.33 के औसत से नौ विकेट निकाले हैं, वहीं सिद्धार्थ कौल ने 21.88 के औसत से इतने ही विकेट लिये हैं।

तेज गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार, संदीप शर्मा, बंगलादेश के ऑलराउंडर शाकिब अल हसन(आठ विकेट), बिली स्टेनलेक सभी गेंदबाज़ी क्रम के ताकतवर और प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं जो किसी भी स्कोर का बचाव कर सकते हैं। हालांकि टीम के बल्लेबाज़ों को अपने खेल में काफी सुधार की जरूरत है।

टीम सबसे अधिक कप्तान विलियम्सन पर रनों के लिए निर्भर है जो तीन अर्धशतकों और एक शतक की बदौलत 43.16 के औसत से 259 रन बनाकर शीर्ष स्कोरर हैं जबकि शिखर धवन(146) के प्रदर्शन में निरंतरता की कमी है।

धवन ने नाबाद 78 अौर 45 रन की पारियों के बाद 7, 0, 5 और 11 रन बनाये हैं। निचले क्रम पर यूसुफ पठान और मध्यक्रम में शाकिब अच्छे स्कोरर हैं और टीम को राजस्थान के घरेलू मैदान पर जीत की लय बनाये रखने के लिये अच्छा खेल दिखाना होगा।